< मजदूर मोती लाल की किस्मत चमकी मिला एक करोड का हीरा Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News 57 साल बाद कार्यालय में जमा हुआ 42 कैरिट का हीरा

"/>

मजदूर मोती लाल की किस्मत चमकी मिला एक करोड का हीरा

57 साल बाद कार्यालय में जमा हुआ 42 कैरिट का हीरा

पन्ना/ जिले में गरीब मजदूरो की किस्मत इन दिनो साथ दे रही है तथा 1 महीने के अन्दर फिर से मजदूर को बडा हीरा मिला है जिससे जहां एक ओर मजदूर के परिवार में खुशी का माहौल है वहीं दूसरी ओर हीरा विभाग भी प्रफुल्लित नजर आ रहा है क्यो की विभाग को भी राजस्व प्राप्त होगा। जानकारी के अनुसार पन्ना तहसील अन्तर्गत कृष्णा कल्याणपुर ग्राम के समीप पटी बजरिया में हीरा खदान लगाने वाले मोती लाल प्रजापति पिता दीनदयाल को आज सुबह निजी उत्थली हीरा खदान में 42. 59 कैरिट का उज्जवल किस्म का हीरा मिला है उक्त हीरे को हीरा कार्यालय में जमा किया गया हीरा पारखी के अनुसार हीरे की कीमत अभी तय नही है लेकिन अन्दाजा लगाया जा सकता है की नीलामी में उक्त हीरे की कीमत 1 करोड तक हो सकती है। मजदूर मोती लाल ने बताया की खदान को कई सालो से मेरे द्वारा लगाई गई लेकिन छोटे हीरे कभी कभार मिलते थें।

उक्त खदान विगत माह 22 सितम्बर को लगाई थी जिसमें 1 अन्य पाटनर को भी शामिल किया गया था। खदान को लगभग 3 फुट खोदा गया था जिसमें भारी पत्थर भी निकल रहें थे लेकिन हम लोगो ने हिम्मत नही हारी और खदान को खोदते रहे भगवान ने मेहनत का फल दे दिया। मोती लाल ने बताया की उक्त हीरा पा कर हम तथा हमारा परिवार बहुत खुश है उक्त रकम से अपना मकान बच्चो की पढाई सहित अन्य सुविधाए प्राप्त कर सकेगें।

ज्ञात हो की इसके पूर्व जनकपुर निवासी प्रकाश शर्मा को विगत माह 15 कैरिट का हीरा मिला था जिसकी कीमत लगभग 20 लाख के आस पास आकी गई थी। इतना बडा हीरा 1961 में 44 कैरिट का 1 अन्य मजदूर को मिला था और यह 57 साल बाद बडा हीरा कार्यालय में जमा किया गया है।

लगातार खदानो में हीरा मिलने से आम लोगो का रूझान इस ओर बढने लगा है। गौरतलब है की पन्ना तहसील तथा देवेन्द्रनगर तहसील के क्षेत्र में हीरा की खदाने उपलब्ध है जहां पर अक्सर हीरे मिलते है लेकिन वन विभाग की तानाशाही के चलतें अधिकांश हीरा खदाने बन्द होती गई। जिससे जमीन के अन्दर दबे बेश कीमती मिनरल लोगो को निकालने नही मिल रहे तथा धीरे धीरे पत्थर खदानो की तरह हीरा खदाने भी बन्द होती जा रही है।

 जबकी पन्ना नगर के आस पास कमला बाई तलाब, दहलान चौकी, गांधी ग्राम, पाली, सरकोहा, रक्सेहा, इटवांखास, रमखेरिया, बृजपुर क्षेत्र में तथा देवेन्द्रनगर तहसील के सकरिया में भारी मात्रा में हीरा उगलने वाली जमीन उपलब्ध है। जिले के लिए नई हीरा नीति बननी चाहिए जिससे आम लोगो की रोजगार मिल सकें तथा जमीन के अन्दर दबे बेशकीमती मिनरल को निकाला जा सके। आम लोगो ने जिला प्रशासन तथा जिम्मेवार जनप्रतिनिधियों से नई हीरा नीति बनाकर वन विभाग को अलग कर हीरा खदाने खोदने की स्वीकृती दिलाए जाने की मांग की है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें