< मुख्यमंत्री का खुले में शौचमुक्त का सपना तोड रहा दम Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जहां एक ओर सरकार शौचालयों के निर्माण एवम स्वच्छता अभियान के तहत "/>

मुख्यमंत्री का खुले में शौचमुक्त का सपना तोड रहा दम

जहां एक ओर सरकार शौचालयों के निर्माण एवम स्वच्छता अभियान के तहत जन जागरूकता अभियान चलाते हुए बाहर शौच को मुक्त करने का बीड़ा उठाया है। वही विकासखण्ड क्षेत्र के गांव में विद्यालय के बच्चे ही सफाई कर्मी के न आने के कारण खुले में शौच जाने को विवश है। इस सफाई कर्मचारी का पूव में डीएम ने एक माह का वेतन रोका था इसके बाद भी उसका रवैया नही बदला।

पनवाड़ी विकास खंड क्षेत्र के रूरी कला ग्राम की जहां विद्यालयों के बच्चों को बाहर शौच के लिये मजबूर होना पड़ रहा है। प्रधानाचार्या अंजनी सिंह ने बताया कि प्राइवेट सफाई कर्मी को पैसा देकर शौचालय साफ करवाते है। जब वो भी नही आता तो विद्यालय के छात्र छात्राओं को बाहर शौच का सहारा लेना पड़ता है। ग्राम प्रधान सहित अधिकारी को अवगत कराने के बावजूद भी जिम्मेदार मौन साधे हुये हैं। पनवाड़ी विकास खंड क्षेत्र के रूरी कला ग्राम में धर्मेंद्र सफाई कर्मी रोस्टर के हिसाब से कभी नहीं आता है। जिसके चलते प्राथमिक विद्यालय रूरी कला में विद्यालय के अगल-बगल व्यापक गंदगी है। पूर्व में जिलाधकारी द्वारा विद्यालय के निरीक्षण के दौरान सफाई कर्मी की शिकायत मिलने पर 1 माह का वेतन रोकने के निर्देश भी दिये थे। अभी भी कोई सुधार नही है। विद्यालय के अध्यापक भी इस दशा पर आंसू बहा रहे हैं। सरकार जहां करोडों रुपये खच कर स्वच्छ भारत का सपना देख रही है वही विभागीय अधिकारी व कर्मचारी सरकार के मंसूबों पर पानी फेर रहे हैं।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें