< अरहर का विशेष शोधित बीज कृषि वि.वि. ने किया तैयार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बुन्देलखण्ड की परिस्थितियों को देखते हुए भारतीय दलहन अनुसंधान "/>

अरहर का विशेष शोधित बीज कृषि वि.वि. ने किया तैयार

बुन्देलखण्ड की परिस्थितियों को देखते हुए भारतीय दलहन अनुसंधान कानपुर द्वारा विकसित की गई अरहर फसल की प्रजाति आईपीए-203 का बीज सात साल पहले स्थापित कृषि एंव प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय ने शोधित किया है। अरहर का यह विशेष बीज अब किसानों के लिए उपलब्ध है।

यह शोधन विश्वविद्यालय परिसर मे स्थापित की गई सीड-हब परियोजना के तहत लगाये गये बीज विद्यालय संयंत्र मे हुआ है। गुरूवार को किसानों को कृषि विश्वविद्यालय के अधिकारियो ने शोधित बीज के बारे मे स्थानीय किसानों को जानकारी दी। विश्वविद्यालय के जनसुनवाई अधिकारी डा. वी.के. गुप्ता ने उक्त आशय की जानकारी देते हुए बताया कि बुन्देलखण्ड के लिए दलहनी फसलो की उन्नतशील प्रजातियों वाले बीज की जरूरत को देखते हुए कृषि विश्वविद्यालय बीज शोधन मे कई वर्षो से जुटा हुआ है। भारतीय कृषि अनुसंधान नई दिल्ली के सहयोग से यहां सीड हब परियोजना की स्थापना की गई। इसमे बीज विद्यापन संयंत्र लगाया गया है। उन्होने बुन्देलखण्ड की भौगोलिक परिस्थितियों मे अरहर का यह बीज मुफीद होगा।

जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि कृषि विश्वविद्यालय मे विकसित और शोधित बीज किसानो की बिक्री के लिए विश्वविद्यालय परिसर मे ही उपलब्ध है। बीज की कीमत 80 रूपये प्रति किलो है। किसानो को आधार कार्ड या जोतबही जैसी कोई आईडी भी देनी होगी तभी शोधित बीज दिया जायेगा।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें