< सौर ऊर्जा के लिए पहले आओ पहले पाओ का लें लाभ – निखिल Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News विकास भवन सभागार में रुफटाप पावर प्लांट की स्थापना सम्बन्धित ब"/>

सौर ऊर्जा के लिए पहले आओ पहले पाओ का लें लाभ – निखिल

विकास भवन सभागार में रुफटाप पावर प्लांट की स्थापना सम्बन्धित बैठक आयोजित की गई। जिसकी अध्यक्षता करते हुए सीडीओ झांसी निखिल फुन्डे ने कई निर्देश दिए। सीडीओ ने कहा कि सौर ऊर्जा अपनाए-पैसे बचाए- शासन द्वारा जनपद स्तर पर ग्रिड संयोजित रुफटाप सोलर फोटोवोल्टाइफ पावर प्लांट की स्थापना की जानी है। इस क्रम में नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास अभिकरण के द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सौर ऊर्जा को बढावा दिए जाने के उद्देश्य से सौर ऊर्जा नीति घोषित की गई है।

सौर ऊर्जा को बढ़ावा

जिसके अनुसार निजी भवनों में ग्रिड संयाजित रुफटाप संयत्रों की स्थापना बढ़ावा दिए जाने हेतु भारत सरकार के साथ ही राज्य सरकार से अनुदान दिया जाएगा। रुफटाप पावर प्लान्ट की स्थापना हेतु आॅन लाइन आवेदन से लेकर लाभार्थी को अनुदान दिए जाने तक की समस्त कार्यवाही आॅन लाइन पोर्टल के अनुसार समय सीमा में की जाएगी। अनुदान ‘प्रथम आगत प्रथम पावत’ के आधार पर किया जाएगा।

आन लाइन आवेदन

सीडीओ निखिल ने लाभकारी योजना का ब्लाॅफ स्तर व ग्राम पंचायत स्तर पर व्यापक प्रचार प्रसार किए जाने की बात कही। इसके अलावा उन्होंने कहा कि रुफ पावर प्लांट की स्थापना से जहां एक ओर विद्युत पर कम निर्भरता होगी साथ ही बचत भी होगी। ऊर्जा नीति के अनुसार निजी भवनों में ग्रिड संयोजित रुफ संयंत्रों की स्थापना को बढ़ावा दिए जाने के लिए भारत सरकार से प्राप्त केन्द्रीय वित्तीय सहायता अधिकतम 30 फीसदी के अतिरिक्त राज्य सरकार द्वारा रुपए 15 हजार प्रति किलो वाट अधिकतम 30 हजार प्रति उपभोक्ता अनुदान भी निर्धारित किया गया है। आॅन लाइन आवेदन में उपभोक्ताओं को अनुदान हेतु श्रेणीवार रखा जाने का प्रावधान है।

रख रखाव की जिम्मेदारी

सीडीओ ने कहा कि योजना के क्रियान्वित किए जाने हेतु यूपी नेडा को नोडल एजेंसी नामित दिया गया है। यूपी नेडा द्वारा संयंत्रों की स्थापना हेतु निविदा की जाएगी। निविदा में प्राप्त न्यूनतम दर से अनुमोदित करते हुए आपूर्तिकर्ता को पंजीकृत किया जाएगा। लाभार्थी को आॅन लाइन आवेदन के पश्चात स्वेच्छा से किसी एक आपूर्ति कर्ता को पंजीकृत किया जाएगा। लाभार्थी को आॅन लाइन आवेदन के बाद स्वेच्छा से किसी एक आपूर्ति कर्ता का चयन कर संयंत्र स्थापित कराए जाने के लिए स्वतंत्र होंगे। संयंत्र के अनुसरण तथा रख रखाव की जिम्मेदारी पूर्ण फार्म की पांच वर्षों के लिए होगी। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए ताकि अधिक से अधिक आमजन आवेदन कर लाभ उठा सके। उन्होंने कहा कि विकास भवन नेडा कार्यालय से भी नीति की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इस मौके पर एडीएम हरीशंकर, एडीएम रणवीर सिंह, डीओ डीके सिंह, शिव दर्शन वर्मा, डी के अवस्थी समेत कई विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें