< संत रविदास वार्ड के पार्षद पर बीएलसी में रुपए मांगने के आरोप Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News महिला का आरोप- 15 हजार रुपए मांग रहा पार्षद

संत रविदास वार्ड के पार्षद पर बीएलसी में रुपए मांगने के आरोप

महिला का आरोप- 15 हजार रुपए मांग रहा पार्षद

सुभाग्योदय की जमीन पर काबिज एक मुस्लिम वर्ग के परिवार को बीएलसी का प्रकरण स्वीकृत कराने और अब जमीन बिकने के बाद महिला को बेदखल करने के प्रयास के बीच पार्षद पर रुपए मांगने के आरोप लगाए गए हैं। मामले में पीड़ित महिला ने जनसुनवाई में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है। महिला खुले आम संत रविदास वार्ड पार्षद चेतराम अहिरवार पर 15 हजार रुपए लेने व 10 हजार रुपए और मांगने के आरोप भी लगा रही है। महिला का एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है। मामले में पार्षद का कहना है कि यदि महिला रुपए मांगना सिद्घ कर दे तो मैं पार्षद पद से इस्तीफा दे दूंगा।

संत रविदास वार्ड क्षेत्र में सुभाग्योदय वाली जमीन पर काबिज फरीदा बी नाम की महिला ने प्रधानमंत्री आवास योजना के बीएलसी घटक के प्रकरण को स्वीकृत कराने के लिए व बगैर पट्टे की जमीन पर प्रकरण स्वीकृत कराने व इसके एवज में पार्षद चेतराम अहिरवार द्वारा 15 हजार रुपए लिए जाने का आरोप लगाया है। महिला को करीब एक लाख रुपए मिल भी गया है। मकान बनाने के दौरान सुभाग्योदय की जमीन खरीदने वाले राकेश जैन द्वारा उसे जमीन से हटाने के प्रयास करने की शिकायत भी महिला कर रही है। फरीदा बी का आरोप है कि अब आगे की राशि दिलाने के लिए पार्षद चेतराम 10 हजार रुपए और मांग रहा है। इधर मकान नहीं बन पा रहा, उधर जमीन के खरीदार उसे बेदखल कराने के लिए हथकंडे अपना रहे हैं।

पूर्व में भी आ चुकी हैं शिकायतें

यह पहला मामला नहीं है जब किसी पार्षद पर बीएलसी की राशि दिलाने के नाम पर रुपए मांगने के आरोप लगे हैं। पूर्व में भाजपा और कांग्रेस पार्टी के पार्षदों के खिलाफ जनसुनवाई में शिकायतें आ चुकी हैं। संत रविदास वार्ड पार्षद का कथित रूप से कमीशन मांगने को लेकर एक ऑडियो करीब ड़ेढ साल पहले भी आया था। हालांकि यह सिद्घ नहीं हो पाया था कि आडियो उन्हीं का है या नहीं।

रुपए मांगना सिद्घ कर दें तो इस्तीफा दे दूंगा

फरीदा बी के परिवार को बीएलसी की राशि स्वीकृत कराने में मदद की है। मेरे वार्ड के निवासी हैं। हमारे वार्ड से करीब 1500 आवेदन जमा किए गए थे। मैंने तो उनकी मदद की थी। उनके परिवार के लोगों से मेरे पारिवारिक संबंध हैं। रुपए मांगने का आरोप गलत है। वे किसी भी स्तर पर सिद्घ कर दें कि मैंने रुपए मांगे हैं तो मैं तत्काल पार्षद पद से इस्तीफा देने को भी तैयार हूं। मेरे खिलाफ विरोधी साजिश के तहत झूठे आरोप लगवा रहे हैं।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें