< उपभोक्तावाद के कारण संघर्ष की स्थिति पैदा होती है Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News पाठक मंच सागर में हुई उपन्यास देमका पर चर्चा

"/>

उपभोक्तावाद के कारण संघर्ष की स्थिति पैदा होती है

पाठक मंच सागर में हुई उपन्यास देमका पर चर्चा

साहित्य अकादमी,म.प्र.संस्कृति परिषद भोपाल की स्थानीय इकाई सागर पाठक मंच की 57 वीं गोष्ठी में नीरजा माधव के उपन्यास"देनपा- तिब्बत की डायरी" पर गोपालगंज स्थित श्यामलम् कार्यालय में समीक्षा की गई। डॉ. चंचला दवे ने अपने आलेख में उपन्यास को डायरी विधा के रूप में लिखा गया ऐसा दस्तावेज बताया जो तिब्बत के लोगों के सामाजिक स्तर, खुशियां, पीड़ाएं, त्रासदी, विसंगतियां, मातृ भूमि के प्रति अगाध प्रेम को प्रदर्शित करता है। तिब्बत चीन के नियंत्रण में है और तिब्बत की स्वाधीनता का प्रश्न विश्व समुदाय एवं अंतर्राष्ट्रीयता का प्रश्न भी है।तिब्बत की स्वतंत्रता भारत के लिए महत्वपूर्ण है।डॉ. आलोक चौबे ने कहा कि उपभोक्तावाद के कारण समूह - समूह और व्यक्ति- व्यक्ति के बीच संघर्ष की स्थिति उत्पन्न होती है और लोगों में सामाजिक उत्तरदायित्व की भावना कम होती है। उन्होंने कहा कि एक बात जो भारतीयों को तिब्बतियों से सीखनी चाहिए, वह है हार ना मानना और राष्ट्रहित में सदैव कुछ ना कुछ अर्पण करने को तत्पर रहना। शायद तभी कई दशकों बाद भी इतने कष्ट झेलने के बाद, भारत सहित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोई विशेष सुनवाई या सहयोग के बगैर भी तिब्बत जिंदा है अपनी जिजीविषा के साथ।

अध्यक्षीय उद्बोधन में जे.पी.पाण्डेय ने पुस्तक को अंतरराष्ट्रीय राजनीति तथा भारत - चीन के संबंधों को पाठकों के समक्ष कुशलता से प्रस्तुत करने के लिए लेखक की सराहना की। केन्द्र संयोजक उमा कान्त मिश्र ने अतिथि स्वागत किया तथा लेखक व पुस्तक परिचय दिया।संचालन डॉ.सर्वेश्वर उपाध्याय ने किया तथा शुभम उपाध्याय ने आभार माना।

गोष्ठी में निर्मलचंद निर्मल,डॉ.कुसुम सुरभि, निरंजना जैन,प्रिया जैन, किरणप्रभा मिश्र,नीतू सेन, डॉ.गजाधर सागर,ऋषभ समैया जलज,प्रो.दिनेश अत्री, डॉ.छबिल मेहर, डॉ.आशुतोष, हरीसिंंह ठाकुर, मुन्ना शुक्ला,पुष्पदंत हितकर,नवनीत धगट,अंबिका यादव, आर.के.तिवारी, पी.आर. मलैया, मुकेश तिवारी, डॉ. अनिल जैन,हरी शुक्ला,कुंदन पाराशर, संतोष पाठक, अवधबिहारी मिश्रा,सुबोध श्रीवास्तव, डॉ.रामरतन पाण्डेय, डॉ.ऋषभ भारद्वाज, डॉ. नौनिहाल गौतम, डॉ.नलिन जैन,अम्बर चतुर्वेदी चिंतन, आशीष ज्योतिषी,राम किशन सेन,कपिल बैसाखिया, पं.सुरेश तिवारी,ईशान मिश्र, सुभाष दुबे दमोह , मुंशीलाल सेन उपस्थित रहे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें