< सत्ता की हनक में हो रहा अवैध खनन व ओवर लोडिंग का खेल Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News मझौल पहाड पटटा एक का पर तीन खदानों का खुलेआम संचालन

"/>

सत्ता की हनक में हो रहा अवैध खनन व ओवर लोडिंग का खेल

मझौल पहाड पटटा एक का पर तीन खदानों का खुलेआम संचालन

ओवरलोड वाहनों ने तोडी रूपनगर की सडक

सत्ता पक्ष के झण्डों के रंग बदले लेकिन पोशाक तो सफेद है और यह पौशाक बाहरी तौर पर चाहे जितनी उजली क्यों न हो इसके पीछे लालच का स्याह रंग व चेहरा जस का तस है। प्रदेश की योगी सरकार अवैध खनन परिवहन पर चाहे जितना गाल बजा ले लेकिन वह भी अपने पदाधिकारयों कार्यकर्ताओं को पिछली सरकारों की लीग से टस का मस नहीं होने दे रही है। गत सरकारों की तरह इस सरकार में सत्ताधारी जबरदस्त तरीके से अवैध खनन व परिवहन को आय का साधन बनाए हैं और सरकार की साख का बटटा लगा रहे हैं।

आबादी में प्रदेश की सबसे छोटी तहसील चरखारी है लेकिन जहां तक अवैध कारोबार का सवाल है तो यह किसी से पीछे नहीं हैं बल्कि चार कदम आगे ही है। यहां अवैध करोबार चोरी छिपे नहीं बल्कि डंके की चोट पर खुले आम हो रहा है। मसलन चरखारी कस्बा से सटे मझौल पहाड को ही ली लीजिए’ अब पहाड की चोरी कोई चोरी छिपे तो हो नहीं सकती और ऐसा भी नहीं कि खनन विभाग को इसकी जानकारी न हो। लेकिन इस अवैध खनन के कारोबार में भी सफेदपोंशो का नाम लिया जा रहा है। बताते चलें कि मझौल पहाड पर सवा दो एकड का एक ही पटटा वर्तमान मे संचालित है। जबकि पटटा धारक के पहाड के दोनों ओर दो अन्य लोग अवैध रूप से पहाड को तोडने में जुटे हुए हैं।

अवैध खनन के साथ अवैध परिवहन भी जोरों पर है। जहां इन पहाडों से निकलने वाले माल को डम्परों के माध्यम से डायट रूपनगर होते हुए मुस्करा रोड पर परिवहन किया जा रहा है। पूरी रात ओवरलोड डम्परों की दौड से डायट से रूपनगर रोड पूरी तरह से टूट गयी है। अभी हाल में नगर पालिका द्वारा लगाई गयी इण्टरलाक जगह जगह धस गई है। इधर चरखारी तहसील के ग्राम गौरहरी, गुढा, अनघोरा क्षेत्र में बालू का अवैध खनन भी सत्ताधारियों द्वारा किया जा रहा है। बालू परिवहन में शासन द्वारा पुलिस के हाथ बांधने का आदेश लागू होने का लाभ भी पुलिस को ही मिल रहा है। जहां पुलिस सीधे तौर पर हस्तक्षेप तो नहीं कर रही लेकिन अवैध परिवहन करने वालों से वसूली कर रही है। रातो दिन ट्रेक्टरों से अवैध परिवहन हो रहा है। चरखारी में किसी के पास एमएम 11 नहीं है। यंहा करीब 6 क्रेशर प्लांट संचालित है। अभी तक यहां गुढ़ा नदी में रेड नहीं पड़ी। जिस कारण यहां खलेआम धडल्लें से अवैध खनन जारी है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें