< पुरातत्व विभाग के कारण प्राचीन धरोहरें विलुप्ति की कगार पर Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News पुरातत्व विभाग में प्राचीन स्मारकों की सुरक्षा के लिये"/>

पुरातत्व विभाग के कारण प्राचीन धरोहरें विलुप्ति की कगार पर

पुरातत्व विभाग में प्राचीन स्मारकों की सुरक्षा के लिये आते है लाखों रुपये

इन इमारतों में सजते है जुये व शराब के फड

सरकार द्वारा प्राचीन धरोहरों को संरक्षित रखने के लिये करोडों रुपये की धनराशि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को भेजी गई थी। जिससे विभाग द्वारा जिले के प्राचीन स्मारकों की मरम्मत कराई गई थी। इन्हें सुरक्षित रखने के लिये प्रत्यक प्राचीन स्मारक मन्दिरों की सुरक्षा के लिये कर्मी भी लगाये गये थे। लाखों रुपये सुरक्षा कर्मी के नाम पर धनराशि खर्च की जाती है लेकिन कोई भी कर्मी प्राचीन स्मारकों की सुरक्षा के लिये नही दिखाई पडते है। यही कारण है कि प्राचीन स्मारकों में जुआ शराब व अयाशी के अड्डे बन गये है।

गौरतलब है कि जनपद के श्रीनगर थाना क्षेत्र के उरवारा गांव में प्राचीन स्मारक को सरकारी द्वारा भेजी गई धनराशि से मरम्मत कराई गई थी और इस धरोहर को संजोये रखने के लिये भारत सरकार द्वारा भारतीय पुरातत्व संरक्षण विभाग को प्रत्येक महीनें भारी भरकम धनराशि भेजी जाती है। जिससे प्रत्येक ऐतिहासिक धरोहरों में पुरातत्व विभाग द्वारा सुरक्षा कर्मी तैनात किये गये। जिससे पुरातत्व विभाग की प्राचीन धरोहरें सुरक्षित रखी जा सके। लेकिन लाखों रुपये की हर माह आने वाली धनराशि का बंदरबाट कर लिया जाता है। लेकिन इन धरोहरों की सुरक्षा हेतु पुरातत्व विभाग का कोई भी कमी दिखाई नही देता है। यही कारण है कि प्राचीन स्मारकों मे अराजक तत्व पहुंचकर वहां जुआ शराब की पार्टियां करते रहते है।

अराजक तत्वों द्वारा इन प्राचीन धरोंहरों में क्षति भी पहुंचाई जाति हैं। वही पुरातत्व विभाग की लचर कार्यप्रणाली के चलते दफीनाबाज भी धन के लालच में प्राचीन धरोहरों को क्षति पहुंचाते रहते है। इन दफीनावाजों द्वारा कई प्राचीन इमारतों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। पुरातत्व विभाग की लचर कार्यप्रणाली और लूट खसोट के चलते यह धरोहरें समाप्ति की कगार पर पहुंचती जा रही हैं। सरकार द्वारा भेजे जा रहे धन को कागजों में दिखाकर विभाग के आला अधिकारी इस धन का बंदरबाट करने में जुटे हुये है। प्राचीन धरोहरों में चल रहे जुये के अड्डों की सूचना ग्रामीणों द्वारा पुलिस को दी जाती है लेकिन पुलिस चल रहे जुआड खानों में नही पहुंचती है। जिससे जुआडियों व अराजक तत्व रोजाना संरक्षित धरोहरों में पहुंच जुआ शराब की पार्टियां कर अराजकता फैलाते है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें