< लंबी मूछें के कारण कोई नत्थूलाल कहता है तो कोई वीरप्पन Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News मूछें हों तो नत्थूलाल जैसी हों, वरना न हों। शराबी फिल्म में अभिन"/>

लंबी मूछें के कारण कोई नत्थूलाल कहता है तो कोई वीरप्पन

मूछें हों तो नत्थूलाल जैसी हों, वरना न हों। शराबी फिल्म में अभिनेता अमिताभ बच्चन का ये संवाद किसी के लिए अनजान नहीं है। फिल्म के एक किरदार की मूछें भले ही छोटी थीं लेकिन इस संवाद ने फिल्म को एक अलग पहचान दी थी।

मूंछों के कारण दमोह के 52 वर्षीय सुदामा रजक शहर में चर्चित हैं। उनकी मूंछें करीब 12 सेमी. लंबी हैं और अब उनकी मूछों के कारण लोगों ने उन्हें मुच्छड़, नत्थूलाल तो वीरप्पन नाम दे दिया है। शहर के जटाशंकर कॉलोनी निवासी सुदामा कचौरा बाजार में सब्जी बेचते हैं। उनके वास्तविक नाम से कम ही लोग उन्हें जानते हैं। सुदामा को मूंछों की तारीफ काफी खुशी देती है। सुदामा ने बताया जब उनका विवाह हुआ था तो उनकी मूंछ निकल रही थी। वह गांव में दूसरों की मूूंछ देखते थे तो उन्हें लगता था जब उनकी मूंछें निकलेंगीं तो वह उन्हें बड़ा करेंगे। उनका ये शौक बढ़ता गया और समय के साथ उनकी मूछें भी बड़ी होती गईं। उन्होंने आज तक अपनी मूंछों पर कैंची नहीं चलाई।

सुदामा ने बताया कि वह रोज मूछों पर तेल लगाते हैं और शुद्ध घी से मालिश करते हैं। उनका कहना है कि वह जीवन भर मूंछों को नहीं काटेंगे। लोग उनकी मूंछें देखकर उनके साथ फोटो भी लेते हैं, उन्हें ये अच्छा लगता है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें