< बीयू में आईटीएचएम को मिला 2.4 करोड का अनुदान Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News आगामी सत्र से मास्टर इन होटेल मैनेज्मेण्ट कोर्स होगा शुरू<"/>

बीयू में आईटीएचएम को मिला 2.4 करोड का अनुदान

आगामी सत्र से मास्टर इन होटेल मैनेज्मेण्ट कोर्स होगा शुरू

पर्यटन एवं होटल प्रबंधन संस्थान बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के द्वारा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एक बडी पहल करते हुए मास्टर ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी पाठ्यक्रम को आगामी शैक्षाणिक सत्र से लागू किया जा रहा है। विभाग द्वारा इस बावत पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार द्वारा स्वीकृति एवं केंद्रीय वित्तीय सहायता हेतु जो प्रस्ताव भेजा गया था उसे पूर्णत: स्वीकृति देने के साथ-साथ पर्यटन मंत्रालय ने 2.4 करोड की सहायता राशि भी स्वीकृति की है। इस राशि का उपयोग विभाग द्वारा अपने ट्रेनिंग एरिया को उ’चीकृत करने एवं नई प्रयोगशालाएं जैसे फूड प्रोडक्शन रिसर्च प्रयोगशाला इत्यादि बनाने के लिए किया जाना प्रस्तावित है।

गौरतलब है कि प्रदेश के किसी भी विश्वविद्यालय में इस प्रकार का मास्टर ऑफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी पाठ्यक्रम संचालित नहीं हो रहा है। इस प्रस्ताव की पर्यटन मंत्रालय के अधिकारियों व विशेषज्ञों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की है। विभागाध्यक्ष प्रो. सुनील कुमार काबिया ने बताया इंटीग्रेटेड एचएमसीटी, एमएचएमसीटी पाठ्यक्रम के प्रारम्भ होने से होटल मैनेजमेंट क्षेत्र में छात्र छात्राओं को उच्च शिक्षा के अवसर के साथ-साथ हायर रिसर्च, यूजीसी-नेट और शिक्षण के क्षेत्र में उत्तम अवसर प्राप्त होंगे। उन्हें अपनी रूचि के विषय में उ’च विशेषज्ञता करने का मौका भी मिलेगा। प्रो. काबिया ने बताया कि एमएचएमसीटी पाठ्यक्रम में निकास का विकल्प भी छात्र छात्राओं को उपलब्ध होगा। उन्हें स्नातक एवं परास्नातक दोनों डिग्री एक साथ प्रदान की जाएंगी। एक विस्तृत प्रस्ताव विश्वविद्यालय के अकादमिक काउंसिल व एक्ज्यूक्यूटिव काउंसिल से अनुमोदन के लिए तैयार किया जा रहा है।

विभाग के फूड प्रोडक्शन इंचार्ज डॉ. महेंद्र सिंह ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए बताया की पर्यटन मंत्रालय की स्वीकृति के उपरांत विभाग में आधुनिक उपकरण व सुविधाएं प्राप्त होंगी। इनसे छात्र-छात्राओं के शिक्षण एवं प्रशिक्षण में गुणवत्ता आएगी। गौरतलब है कि विभाग की लैब की स्थापना लगभग दो दशक पूर्व हुई थी। इनमे आधुनिकीकरण एवं उच्चीकरण की आवश्यकता महसूस की जा रही है। विभाग में एक आधुनिक लेंगुएज एण्ड कम्यूनिकेशन लेब की भी स्थापना की जाएगी। इससे छात्र-छात्राओं को विभिन्न भाषाओं में पारंगत किया जा सकेगा। प्रो. काबिया ने ये भी बताया कि आगामी सत्र से बीएचएमसीटी में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राए अपनी डिग्री को उच्चीकृत कर मास्टर डिग्री भी नियमानुसार प्राप्त कर सकेंगे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें