< चार्ज लेकर नौकरी देने का दावा, पढ़े-लिखे हो रहे शिकार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बेरोजगारों को जालसाजों ने शिकार बनाना शुरु कर दिया है

चार्ज लेकर नौकरी देने का दावा, पढ़े-लिखे हो रहे शिकार

बेरोजगारों को जालसाजों ने शिकार बनाना शुरु कर दिया है

बेरोजगारों को एक बार फिर जालसाजों ने शिकार बनाना शुरु कर दिया है। बेरोजगार पढ़े लिखे युवाओं को इंटरनेट के माध्यम से नौकरी देने के नाम पर 300 और 350 रुपयों का चार्ज लेकर नौकरी देने का दावा किया जा रहा है। जिसमें नगर पालिका परिषद स्तर पर प्रत्येक वार्ड में छोटे-छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए एक एनजीओ के तहत अध्यापकों की नियुक्ति की जाने की जानकारी दी जाती है और पढ़े लिखे युवाओं को ऑनलाइन आवेदन मांगा गया है। तारीफ तो इस बात की है कि नगर पालिका परिषद के कुछ पार्षदों को फोन कर आवेदन करवाने के लिए कहे जाने पर कुछ पार्षदों ने भी अपने अपने वार्ड के पढ़े लिखे युवाओं को ऑनलाइन आवेदन करवाने के लिए कहा है और बेरोजगार होने के कारण युवाओं में होड़ लग गई है। सैकड़ों युवाओं ने उस एनजीओ में आवेदन कर अपनी ऑनलाइन फीस भी जमा करवा दी है। एनजीओ द्वारा मांगे गए ऑनलाइन आवेदन के बारे में तरह तरह की चर्चाओं के अनुसार यह एनजीओ फर्जी है तो कुछ लोग सही बता रहे हैं लेकिन यह एक जांच का विषय है। 

पढ़े-लिखे युवा भी हो रहे शिकार

देश में बढती बेरोजगारी ने युवाओं को झकझोर कर रख दिया है। इस लिए युवाओं को बेरोजगारी और मजबूरी का लाभ साहूकारो द्वारा खूब उठाया जाता रहता है। परेशान होकर युवा चक्कर में  में फंस जाते हैं। युवाओं कि परेशानी यही नही रुकी बल्कि वर्तमान में अब युवाओं को अलग अलग तरीके से ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। तारीफ तो इस बात कि है कि शिक्षित युवा जो बीएड बीए बीएससी जैसी डिग्रियां लिए है ठगी के शिकार हो रहे है। कभी मोवाईल फोन से तो कभी इन्टरनेट पर फर्जी आईडी पर नौकरी की विज्ञप्ति निकाल कर नौकरी का झासा देकर लोभलुभावने लालच देकर रुपये वसूलते है।

देश में युवाओं के बीच बेरोजगारी और बढ़ता असंतोष चिंताजनक

यदि देश में उपलब्ध युवाओं को अच्छी तरह से शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण दिया जाय तो इनको न केवल अच्छा रोजगार मिलेगा बल्कि यह देश के आर्थिक विकास में भी अच्छा योगदान दे सकते हैं लेकिन जिस तरह से पिछले कुछ समय से देश में पर्याप्त रोजगार का सृजन नहीं हो रहा है और विशेषकर युवाओं के बीच बेरोजगारी बढ़ रही है। इसके परिणास्वरूप कई नई समस्याएं उभर रही हैं। इस तरह के कई उदाहरण हाल के दिनों में देखने को मिले हैं, जिनमें बेरोजगार युवाओं की भूमिका अंतर्निहित है। इनमें मुख्यरूप से आज के युवाओं में बेरोजगारी के कारण असंतोष फैल रहा है।

क्या कहते है एसडीएम .................

इस संबंध में उप जिलाधिकारी सुनील कुमार शुक्ला ने कहा कि नगर पालिका परिषद स्तर पर शासन से कोई ऐसी योजना नहीं है जिसमें बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने की बात कही गई हो। यदि कोई एनजीओ द्वारा  फर्जी तरीके से ऑनलाइन आवेदन मांग कर ठगी की जा रही है। तो लिखित शिकायत आने पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

नहीं है ऐसी कोई योजना - अधिशाषी अधिकारी 

जब इस संबंध में नगर पालिका परिषद अधिशासी अधिकारी मोहम्मद कामिल से पूंछा गया तो उन्होंने कहा कि नगरपालिका परिषद में ऐसी कोई योजना नहीं है और कुछ पार्षदों द्वारा मौखिक बताया गया है लेकिन अभी तक किसी भी प्रकार की कोई योजना नहीं है। यदि कोई एनजीओ इस तरीके की योजना के नाम पर ठगी कर रहा है तो वह फर्जी है। लिखित रूप से शिकायत पर आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें