< मुख्यमंत्री कन्या अभिभावक पेंशन योजना Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News शासन के निर्देशानुसार प्रदेश में ऐसे दंपत्ति जिनकी संतान सिर्फ"/>

मुख्यमंत्री कन्या अभिभावक पेंशन योजना

शासन के निर्देशानुसार प्रदेश में ऐसे दंपत्ति जिनकी संतान सिर्फ लड़कियां ही हैं उन्हें मुख्यमंत्री कन्या अभिभावक पेंशन योजना का लाभ दिया जायेगा। मुख्यमंत्री कन्या अभिभावक पेंशन योजना में पात्रता के मापदण्ड अनुसार मध्यप्रदेश का मूल निवास हो, दम्पत्ति में से किसी एक की न्यूनतम आयु 60 वर्ष हो, दम्पत्ति की मात्र संतान के रूप में केवल पुत्री हो और दम्पत्ति आयकरदाता न हो।

अपात्रता के मापदण्ड अनुसार जो हितग्राही पात्रता के मापदण्ड में नहीं आता वह सब अपात्र कहलायेगें। यदि किसी हितग्राही ने उनके पुत्र की जानकारी छिपाकर शासन योजना का लाभ प्राप्त किया है, भले ही उनका पुत्र उनको साथ नहीं रख रहा हो अपात्र माने जायेंगे। केवल जीवित कन्या ही है तथा आयकरदाता नहीं है, के आशय का शपथ पत्र नहीं देने पर, वह अपात्र माने जायेंगे।

पात्रता की पुष्टि के लिए जिन दम्पत्ति की केवल कन्या ही हुई है और कोई जीवित पुत्र नहीं की पुष्टि दस्तावेजों के प्रस्तुत करने पर की जायेगी। योजना तहत राशन कार्ड, मतदाता निर्वाचक नामावली जिसमें दम्पत्ति का नाम एवं परिवार के सदस्यों का नाम हो, ग्राम पंचायत/वार्ड प्रभारी का प्रमाण पत्र, आंनगबाड़ी, आशा कार्यकत्र्ता की रिर्पोट पंजी और दम्पत्ति द्वारा इस आशय का शपथ पत्र की आयकरदाता नहीं है प्रस्तुत करना अनिवार्य है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें