< नवागत संभागायुक्त ने छतरपुर का किया निरीक्षण Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News सागर संभाग के नवागत संभागायुक्त मनोहरलाल दुबे गुरुवार को छतरपु"/>

नवागत संभागायुक्त ने छतरपुर का किया निरीक्षण

सागर संभाग के नवागत संभागायुक्त मनोहरलाल दुबे गुरुवार को छतरपुर आए। शाम करीब पांच बजे उन्होंने जिले के अधिकारियों की संक्षिप्त परिचयात्मक बैठक ली। उन्होंने जिले के अधिकाजिला स्तरीय समिति दिव्यांगजनों को हो रही समस्याओं का समाधान करेगी।

राज्य शासन एतद द्वारा दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों अंतर्गत मध्यप्रदेश दिव्यांगजन अधिकारी नियम बनाये जाने के फलस्वरूप दिव्यांजन अधिकार अधिनियम की धारा तहत निहित प्रावधान अनुसार कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने जिला स्तरीय सलाहकार समिति का गठन कर दिया है। मध्यप्रदेश दिव्यांगजन अधिकार नियम अनुसार समिति में कलेक्टर अध्यक्ष होंगे, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, सिविल सर्जन, मुख्य चिकित्सा एवं स्वाथ्य अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक, महाप्रबंधक उद्योग, परियोजना अधिकारी शहरी विकास, जिला रोजगार अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास समिति के सदस्य होंगे।

इसके अलावा दिव्यांगता के कल्याण से संबद्ध स्वैच्छिक संस्थाओं के दो प्रतिनिधि जिला रेडक्रास सोसायटी दमोह डॉ. वीणा यदु तथा जनशक्ति सेवा संगठन दमोह अध्यक्ष सुशील सोनी समिति सदस्य, जिला नि:शक्तजन पुनर्वास केन्द्र के प्रतिनिधि सचिव रेडक्रास समिति सदस्य, ऐसे दो प्रतिष्ठित नि:शक्तजन जिन्होंने किसी क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धि प्राप्त की हो प्राचार्य टैगोर हाई स्कूल इमलिया घाट डॉ. प्रेमलता नीलम तथा प्राध्यापक के.एन.कालेज दमोह रत्नेश सराफ को समिति में सदस्य बनाया गया है। उपसंचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण समिति के सदस्य/सचिव बनाये गये हैं।

कलेक्टर डॉ.शर्मा ने कहा है नामांकित सदस्य जिला स्तरीय समिति दिव्यांगजनों को हो रही समस्याओं का समाधान करेगी तथा शासकीय विभागों, अशासकीय संगठनों से समन्वय कर समग्र पुनर्वास के लिये कार्यवाही करेगी एवं की गई कार्यवाही की मॉनीटरिंग कर मूल्यांकन करेगी।रियों से मुलाकात की साथ ही आवश्यक निर्देश भी दिए। स्थानीय कलेक्टोरेट में आहुत परिचयात्मक बैठक के दौरान कमिश्नर श्री दुबे ने कहा कि समस्त अधिकारी टीम वर्क के साथ लक्ष्य निर्धारित कर कार्य करें तथा जिले को पिछड़ेपन की श्रेणी से बाहर निकालने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि जिले में पर्याप्त आवश्यक संसाधन हैं। यदि अधिकारी ठीक ढंग से कार्य करेंगे तो शिकायतें भी कम आएंगी। 

इस मौके पर कलेक्टर रमेश भंडारी से उन्होंने गेहूं एवं चना, मसूर व सरसों के उपार्जन कार्य, पानी उपलब्धता, नल-जल योजना एवं राहत राशि वितरण की जानकारी ली। बैठक में मण्डल के सभी जिलों के जिलाधिकारी व जिपं सीईओ हर्ष दीक्षित, संयुक्त कलेक्टर दिव्या अवस्थी, एसडीएम रविन्द्र चैकसे सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें