< कलेक्टर ने ग्रामीणों से रूबरू होकर सुनी समस्याएं Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने बुधवार को देवरी विकासखण्ड के सरखेड़ा, "/>

कलेक्टर ने ग्रामीणों से रूबरू होकर सुनी समस्याएं

कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने बुधवार को देवरी विकासखण्ड के सरखेड़ा, गुगवारा, सिंगपुर गंजन, देवरी, बिजोरा आदि ग्रामों में पहुंचकर ग्रामीणों से रूबरू होकर उनकी समस्याएं जानी। इस अवसर पर उनके साथ एसडीएम आर.एम. त्रिपाठी, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ए.आर. मंसूरी, जनपद पंचायत सीईओ राहुल पाण्डे, तहसीलदार वर्मा एवं अन्य जिलाधिकारीगण मौजूद थे। 

नवनिर्मित ग्राम पंचायत भवन सरखेड़ा की तारीफ करते हुये उन्होंने कहा कि भवन निर्माण उच्च गुणवत्तायुक्त सामग्री से निर्मित किया गया है इसका यथाशीघ्र लोकार्पण कर पंचायत को सौप दिया जायेगा। पंचायत परिसर में मौजूद सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक एवं वहां के ग्रामीणजन से चर्चा करते हुये उन्होंने पूछा कि उन्हें शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं। उन्होंने सरखेड़ा में किये गए वृक्षारोपण वस्तु स्थिति का भी जायजा लिया एवं गांव में निवासरत लोगों से उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यो की जानकारी ली। 

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्मित आवासों का निरीक्षण किया एवं स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाये गए शौचालयों की जानकारी ली। आवास निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने गुगवारा गांव की वृद्धा से पूछा कि उन्हें वृद्धावस्था पेंशन का लाभ मिल रहा है या नही। वृद्धा ने बताया कि उसके बच्चे मजदूरी करने शहर जा चुके है। पहले उनका मकान कच्चा था। उनको प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्का मकान मिल गया है, उज्जवला गैस कनेक्शन, शौचालय निर्माण, मीटर कनेक्शन एवं पेंशन भी प्राप्त हो रही है। 

कलेक्टर श्री सिंह ने सिंगपुर गंजन में स्थित पॉली हाउस के मालिक से चर्चा करते हुए उनके द्वारा बोई जा रही सब्जी और पॉली हाउस के संचालन की जानकारी ली। पॉली हाउस स्थल पर मौजूद किसानों को कलेक्टर श्री सिंह ने प्रोत्साहित कर इस तरह के उन्नत कृषि कार्यों को अपनाने के लिये कहा। तत्पश्चात् शासकीय प्राथमिक शाला देवरी खेड़ा में गांव के युवाओं को मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना की जानकारी जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ए.आर. मंसूरी ने दी। उन्होने बताया कि इस योजना का लाभ किसान के पुत्र एवं पुत्री लेकर स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकते है। उक्त योजना का लाभ लेने के लिये हितग्राही को 10वीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है एवं उसकी उम्र 18 से 45 वर्ष होनी चाहिये।

कलेक्टर श्री सिंह ने इस योजना को विस्तार समझाते हुय बताया कि हितग्राही उद्योग, सेवा क्षेत्र, में व्यवसाय स्थापित कर सकते है। इसके अंतर्गत कृषि आधारित संयंत्र, कस्टम हायरिंग सेंटर, एग्रो प्रोसेसिंग, फूड प्रोसेसिंग, कैटल फीड, दाल मिल, बेकरी, मसाला उद्योग, फ्लोर मिल आदि शामिल है। कलेक्टर श्री सिंह ने मौजूद लोगों को इन सब उद्यमों को लगाकर स्वरोजगार से जुड़ने के लिये प्रेरित करते हुए कहा कि स्वयं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिये इस योजना का लाभ लेकर अन्य लोगों को रोजगार प्रदान किया जा सकता है। 

कलेक्टर श्री सिंह ने शासकीय संजय निकुंज जाकर वहां नर्सरी का जायजा लिया। उद्यानिकी अधिकारियों से पूछा कि यहा कौन-कौन से पौधे रोपित किये गए है एवं अमरूद, आम, नीबू एवं आवले की कौन-कौन की नस्ल की प्रजातियां उपलब्ध है। उद्यानिकी अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में यहा 10 एकड़ में डेढ़ लाख पौधे तैयार है। म.प्र. राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम प्रक्षेत्र बिजोरा जाकर किसानों से बात करते हुए कृषक समृद्धि योजना, भावांतर भुगतान योजना एवं सूखा राहत की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जिन किसानों के संयुक्त खाते है वह अपनी लिखित सहमति देकर भावांतर राशि प्राप्त कर सकते है। तत्पश्चात् उन्होंने उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय एवं शासकीय नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय देवरी का निरीक्षण किया।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें