< लापरवाह अधिकारियों के प्रति डीएम का कडा रुख Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News अनुपस्थित अधिकारियों से मांगा स्पष्टीकरण

लापरवाह अधिकारियों के प्रति डीएम का कडा रुख

अनुपस्थित अधिकारियों से मांगा स्पष्टीकरण

जिलाधिकारी विशाख जी. की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में अभियोजन व मानीटरिंग सेल, खनन, अतिक्रमण, अन्नाप्रथा, वन समस्या एवं कर-करेत्तर, राजस्व कार्यों, एण्टी भूमाफिया, प्रतिशपथ पत्र लगाने की प्रगति, पांच वर्षों से अधिक पुराने वादों का निस्तारण, यातायात आदि बिन्दुओं पर अधिकारियो के साथ समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई।

उन्होंने बैठक में मनोरंजन कर निरीक्षक के उपस्थित न होने पर एक दिन का वेतन काटने व जिलाधिकारी कौशाम्बी को पत्र भेजने के निर्देश अपर जिलाधिकारी को दिये। वन विभाग के प्रभारी वनाधिकारी के बैठक में उपस्थित न होने पर व मेडिकल पर जाने पर कहा कि मुख्य चिकित्साधिकारी को मेडिकल सर्टीफिकेट उपलब्ध करायें। महानिरीक्षक स्टाम्प एवं रजिस्ट्री से कहा कि विकास प्राधिकरण के क्षेत्र में जो नक्शा पास व रजिस्ट्री होती है उसका छह माह का विवरण उपलब्ध करायें। कार्यालय में सीसीटीवी रिकार्डिंग कैमरा लगवाये जायें। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी को निर्देश दिये कि ओवर लोड वाहनों का चैकिंग नहीं किया जा रहा उन पर कार्यवाही की जाये। अगर किसी वाहन पर एक से अधिक बार ओवर लोडिंग मिलती है तो उसका परमिट समाप्त कर प्राथमिकी दर्ज करायी जाये। कहा कि प्रतिदिन का परिणाम क्षेत्रवार चाहिए। उप जिलाधिकारी राजापुर से कहा कि रात्रि में पहाड़ी पेट्रोल पम्प के पास ट्रकों की लाइन लगती है। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी को साथ में लेकर ओवर लोडिंग की चैकिंग करायें। उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि शराब की दुकानों पर लाइसेंस, अवैध शराब आदि की अपने-अपने क्षेत्रवार चैकिंग करें ओर कृत कार्यवाही से अपर जिलाधिकारी को अवगत करायें। अधिशाषी अभियंता विद्युत को निर्देश दिये कि अवैध कटिया धारकों व निजी ट्यूबवेलों के कनेक्शनों की जांच करायी जाये और अपने लक्ष्य को पूरा करायें। जिला खनिज अधिकारी को निर्देश दिये कि हर खनन पट्टे का सत्यापन कराया जाये। किसी भी दशा में अवैध खनन नहीं होना चाहिए। सचिव मण्डी समिति को निर्देश दिये कि कितनी दुकानें अभी अवशेष हैं। उनका निर्धारण कर तत्काल नियमानुसार आवंटन किया जाये। सचिव द्वारा अपने कर्तव्यों का निर्वहन सही तरीके से न करने पर अपर जिलाधिकारी को निर्देश दिये कि इनसे स्पष्टीकरण मांगी जाये। अगर भविष्य में कार्य सही से नहीं करेंगे तो इन्हें यहां से कार्यमुक्त करने की कार्यवाही की जायेगी।

उन्होंने उप जिलाधिकारियों व तहसीलदारों को निर्देश दिये कि अपने-अपने क्षेत्र में अवैध खनन व जो भी विकास कार्य हो रहे हैं उसकी जानकारी रखें। समय-समय पर निरीक्षण भी किया जाये। इसके साथ ही गेहूॅं खरीद क्रय केन्द्रों का भी निरीक्षण करें। प्रत्येक सप्ताह कितने निरीक्षण किये गये उसकी रिर्पोट उपलब्ध करायी जाय। राजस्व वसूली में तहसील राजापुर की कम वसूली पाये जाने पर तहसीलदार राजापुर का स्पष्टीकरण मांगा जाये। जब तक मानक के अनुसार वसूली नहीं लायेंगे तो इनका वेतन नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि अंश निर्धारण, आम आदमी बीमा योजना के लंबित मामलो का निस्तारण किया जाये तथा अभियोजन मामलो मे जो रिपोर्ट लगायी जाती है सीधे न लगाकर उसे विधिक राय के अनुसार लगायें। खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा नमूना भरते है तो उसे उप जिलाधिकारी की देखरेख मे औषधि नमूना को शील किया जाये। लिखित सूचना अपर जिलाधिकारी को दें। सरकारी जमीन पर कब्जे नही होने चाहिए। हदबन्दी के मामलो की आख्या रिपोर्ट समय से नही आती है। उसे समय से भेजी जाय। भू-माफियो की जो राजस्व व पुलिस की सूची है। उसका मिलान किया जाये। यदि मिलान नही हो रहा है तो उसे ठीक करें। तहसील समाधान दिवस, थाना समाधान दिवस की शिकायतो को प्राथिमिकता के आधार पर की जाये। इसके अलावा मुख्यमंत्री संदर्भ आईजीआरएस, पीजी पोर्टल, जन सुनवाई आदि लंबित प्रकरणो मे तेजी लाकर निस्तारण किया जाये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जिन विभागों की लक्ष्य के सापेक्ष वसूली कम है वे रणनीति बनाकर अपनी लक्ष्य को शतप्रतिशत पूरा करें। बैठक में अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी कर्वी, राजापुर, मऊ, मानिकपुर, सहित अधिकारी उपस्थित रहे।                      
 

About the Reporter

  • राजकुमार याज्ञिक

    चित्रकूट जनपद के ब्यूरो चीफ एवं भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार याज्ञिक चित्रकूट जनपद के एक वरिष्ठ पत्रकार हैं। पत्रकारिता में स्नातक श्री याज्ञिक मुख्यतः सामाजिक व राजनीतिक मुद्दों पर अपनी गहरी पकड़ रखते हैं।, .

अन्य खबर

चर्चित खबरें