< रोजगार के अभाव में पलायन कर रहे बुंदेली Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News केंद्र व प्रदेश की सरकार अन्नदाताओं को बदहाली से उबारने के लिए ग"/>

रोजगार के अभाव में पलायन कर रहे बुंदेली

केंद्र व प्रदेश की सरकार अन्नदाताओं को बदहाली से उबारने के लिए गंभीर है। मनरेगा योजना के तहत गांव में ही काम देने की योजना भी संचालित है लेकिन यह धरातल में सफल होते नहीं दिख रही है। नतीजा काम के अभाव में दो वक्त की रोटी की जुगाड़ में बुंदेले महानगरों की ओर पलायन कर रहे है। धरातल में मनरेगा दम तोड़ती नजर आ रही है। यह योजना बुंदेलखंड से लगातार हो रहे मजदूरों के पलायन की समस्या को मनरेगा योजना भी रोक नहीं पा रही है। पंचायतों में मनरेगा योजना के तहत काम की गति न के बराबर है।

यही कारण है कि काम की तलाश में जाब कार्ड धारक दूसरे शहरों की ओर जा रहे हैं। ग्राम पंचायतों में नए वित्तीय वर्ष 2018/ 19 के पहले माह अप्रैल में कोई भी काम मनरेगा योजना के अंतर्गत नहीं हुआ है। जबकि विगत वित्तीय वर्ष 17/18 के कार्यों की मजदूरी के जिले में कुल 9910 मानव दिवस के मास्टर रोल फीड हुए। जिसमें सबसे बड़े ब्लॉक कबरई में 94 ग्राम पंचायतों में एक अप्रैल से 30 अप्रैल तक महज 363 मानव दिवस सृजित हुए। कबरई ब्लॉक के ग्राम पंचायतों में महज प्रति ग्राम पंचायत चार मानव दिवस का जॉब कार्ड धारकों को कार्य मिला। इन हालातों में मजदूर यहां रह कर कितना काम कर लेगा और परिवार का भरण पोषण कैसे करेगा।

विकास खंड चरखारी में 2181 मानव दिवस ,पनवाड़ी विकास खंड में आंकड़ों के अनुसार तीसरे नंबर पर है। यहां 3230 मानव दिवस, जैतपुर विकास खंड 4136 मानव दिवस के साथ माह अप्रैल में टॉप स्थिति में है। किसान पलायन को मजबूर है और उनके पास अपनी किस्मत को कोसने के अलावा शायद कुछ नहीं बचा है। 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें