< ‘महिला सुरक्षा व चुनौती’ पर हुई संगोष्ठी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा के श्रेया आकर्ष इन्स्टीट्यूट में ‘वर्तमान के परिप्रेक्"/>

‘महिला सुरक्षा व चुनौती’ पर हुई संगोष्ठी

बांदा के श्रेया आकर्ष इन्स्टीट्यूट में ‘वर्तमान के परिप्रेक्ष्य मे महिला सुरक्षा एवं चुनौती’ विषय के संदर्भ में एक चिंतन गोष्ठी आयोजित की गई। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि जनपद की एसपी शालिनी रहीं व अध्यक्षता डाॅ. चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ‘ललित’ ने की। 

मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक शालिनी ने कहा महिलाएं ज्ञान, साहस, शालीनता इत्यादि अलंकारों को धारण करें। जनपद में सभी इण्टर काॅलेजों, महाविद्यालयों में महिला सुरक्षा के प्रति बालिकाओं को प्रशिक्षित तथा आत्मविश्वासी बनने की कहानियां सुनाई। उन्होंने अपनी छात्र जीवन के संस्मरण को बताया कि अपने नाम के अनुरूप वे शालीनता को धारण करती हैं। गलत कभी स्वीकार नहीं किया, इसी कारण आज यह मुकाम हासिल कर पाई हैं।

कार्यक्रम की आयोजक व श्रेया आकर्ष इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर अंजूरानी दमेले ने बताया कि उन्हें बचपन से कभी भी डर नहीं लगा। इसी भावना से पे्ररित होकर बालिकाओं के आत्मविश्वास, ज्ञान वर्द्धन के संदर्भ में कार्यक्रम आयोजित किया गया। 
वरिष्ठ अधिवक्ता व भाजपा नेत्री ममता मिश्रा ने कहा महिलाओं के उत्पीड़न के संदर्भ में सच का साथ देने में आगे आये। कार्यक्रम में उपस्थित पूर्व प्रधानाचार्य बाबूलाल गुप्ता ने कहा कि व्यक्तिगत परिचित व्यक्ति ही महिलाओं के उत्पीड़न व हत्या में सहभागी होता है। उसे नैतिक संस्कार की महती आवश्यकता है। उन्होंने वैदिककाल के कई महिला सशक्तीकरण उदाहरण प्रस्तुत किये।

आकांक्षा बरनवाल ने बताया कि महिलायें एवं बालिकायें अपनी अस्मिता के प्रति जागरूक बने। पूर्व प्रधानाचार्या शमीम बानो ने कहा कि हर बालिका आत्मनिर्भर, स्वावलम्बी बने तथा सरकारी कानूनों व पुलिस सुरक्षा के नम्बर 1090 व 100 इत्यादि का सुरक्षा में प्रयोग करे।

शबाना रफीक ने कविता सुनाकर बताया ‘‘अगर अबला होती तो दुर्गा ना बनी होती’’।

डाॅ. सबीहा रहमानी ने कहा ‘‘आत्यो दीपोभवः’’ साथ में कविता सुनाकर कहा - ‘‘चुप्पी तोड़ो खुलकर बोलो, मैं ही मैं रहूंगी’’।

डाॅ. चन्द्रिका प्रसाद दीक्षित ललित ने अपनी कविता में कहा ‘‘प्यार करो पर, व्यापार मत करो’’ साथ ही सभी का आभार जताया। कार्यक्रम का संचालन अंशु प्रिया चंदेरिया ने किया।

कार्यक्रम में राजकुमार राज, संजय निगम अकेला, दीनदयाल सोनी, ज्योत्सना पुरवार, उमा पटेल, जेपी यादव, अशोक पालीवाल, अमित सेठ भोलू सहित महिलायें, छात्र-छात्राएं व इंस्टीट्यूट का स्टाॅफ उपस्थित रहा। 
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें