< एक व्यक्ति एक वृक्ष योजना के बारे में दी जानकारी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जिलाधिकारी सहदेव ने अधीनस्थों के साथ वृक्षारोपण को लेकर क"/>

एक व्यक्ति एक वृक्ष योजना के बारे में दी जानकारी

जिलाधिकारी सहदेव ने अधीनस्थों के साथ वृक्षारोपण को लेकर की बैठक

गंगा हरितमा अभियान के तहत इस साल गंगा किनारे के 27 जनपदों में वृक्षारोपण एवं अन्य जनपदों में पर्यावरणीय संतुलन बनाये रखने हेतु जनचेतना विकसित एवं भूमि का चिन्हांकन कर जनपद में वृहत वृक्षारोपण करने के लिए जिलाधिकारी सहदेव की अध्यक्षता में वृक्षारोपण समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुयी। डीएम ने कहा कि जनपद में पहाड़ उत्खनन एवं क्रेशरों से निकलने वाली स्टोन डस्ट से पर्यावरण का संतुलन बिगड़ रहा है तथा प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। पर्यावरणीय असंतुलन एवं बढ़ते प्रदूषण की वजह से जनपद पिछले कुछ वर्षों से लगातार सूखा, अवर्षण,भू-तापन एवं  ओलावृष्टि आदि समस्याओं का लगातार सामना कर रहा है। इसलिए जनपद में पर्यावरणीय संतुलन बनाने एवं भू-तापन नियंत्रित करने हेतु जनपद में वृहत वृक्षारोपण बहुत जरूरी है।ये भी बताया कि जनपद में 33 प्रतिशत के सापेक्ष मात्र 5.5 प्रतिशत वनाच्छादन है, जोकि मानक के अनुसार बहुत कम है।

प्रभागीय वनाधिकारी ईश्वर दयाल ने बताया कि जनपद को वर्ष 2018 में जनपद में 05 लाख पौधारोपण का लक्ष्य दिया गया है।जिलाधिकारी ने प्रभागीय वनाधिकारी को निर्देशित किया कि जनपद में लक्ष्य के सापेक्ष औद्योगिक प्रतिष्ठानों, बेसिक स्कूलों, माध्यमिक स्कूलों, उच्च शिक्षा संस्थानों, अन्य सरकारी विभागों के कार्यालय परिसरों एवं समस्त सरकारी कालोनियों, वर्तमान में जनपद में संचालित की गयी 06 गौशालाओं, कृषि फार्महाउसों, वन विभाग की भूमियो, सड़क मार्गों, तालाबों के किनारों तथा अर्जुन सहायक नहर परियोजना के दोनो किनारों पर वृहत वृक्षारोपण किया जाये।इसके अलावा उन्होनें सरकार द्वारा संचालित ‘‘एक व्यक्ति एक वृक्ष/वृक्ष भण्डारा’’ योजना के बारे में बताया तथा सभी लोगों से अपील करते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति कम से कम एक पौधा अवश्य लगाये तथा उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी ले तभी जनपद में हरीतिमा कायम की जा सकती है।

इसके साथ ही जिलाधिकारी ने उद्यान अधिकारी को भी निर्देशित किया कि वह अपने विभाग से संचालित पोषक वाटिका, सब्जी पट्टी एवं बुन्देलखण्ड एवं विंध्य क्षेत्र में संचालित औद्यानिक विकास आदि योजनाओं से लोगों को लाभान्वित कर हरीतिमा को बढ़ायें।बता दें कि औद्यानिक विकास योजना के तहत एक हेक्टेयर भूमि पर बाग लगाने पर 36 माह तक विभाग द्वारा प्रति माह तीन हजार रूपये के हिसाब से अनुदान देने तथा पोषक वाटिका योजना के तहत प्रत्येक व्यक्ति को पांच पौधे (अमरूद, आंवला, नीबू, सहजन एवं पपीता) निःशुल्क वितरित करने का प्रावधान है। बैठक में बीएसए, डीआईओएस सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें