< जांच में भी सही पाये गये संदीप की नियुक्ति क्यों नहीं हुई Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज हमीरपुर में (वित्त विहीन मान्"/>

जांच में भी सही पाये गये संदीप की नियुक्ति क्यों नहीं हुई

सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज हमीरपुर में (वित्त विहीन मान्यता प्राप्त विद्यालय) में सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति सही थी। इसके बाद भी पिछले पांच वर्षों से भटक रहे संदीप कुमार को काॅलेज में नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया। भुक्तभोगी संदीप कुमार पुत्र जगतनारायण शर्मा निवासी हमीरपुर ने सन् 2012 मे सहायक अध्यापक पद के आवेदन किया था। 15 अक्टूबर को सर्वाधिक अंकों के आधार पर संदीप का चयन किया गया। चयन पत्र में सूर्य कुमार तिवारी तत्कालीन अध्यक्ष एवं चंद्रशेखर सचान तत्कालीन प्रबंधक द्वारा हस्ताक्षर किये गये थे। बाद मं अंशकालिक नियुक्ति की बात कहकर अभ्यर्थी को गुमराह किया गया। भुक्तभोगी के बजाय दूसरे व्यक्ति को नियुक्त किया गया। तब भुक्तभोगी ने जांच के लिए जिला विद्यालय निरीक्षक से लेकर लखनऊ में उच्च अधिकारियों तक दौड़ लगाई फिर भी उसे न्याय नहीं मिला।

इस बीच उसने जिला विद्यालय निरीक्षक से पोर्टल के माध्यम से शिकायत दर्ज कर दूसरे व्यक्ति से जांच की मांग की। 22 दिस0 2017 को पूरे प्रकरण की जांचं नए सिरे से वित एवं लेखाधिकारी (मा0 शिक्षा) ने की और पाया की जांच में धांधली हुई है।

वित एवं लेखाधिकारी ने जांच के बाद सौंपी गयी रिपोर्ट में कहा है कि चयन प्रक्रिया संदिग्ध व दोषपूर्ण एवं अपारदर्शी है तथा प्रबंध समिति /चयन समिति में मतभेद है। जिसका प्रभाव पूरी चयन प्रक्रिया में हुआ है। (ऐसे में उचित होता कि सभी चयन निरस्त कर नए ढंग से चयन प्रक्रिया शुरू होती। चयन समिति ने निर्धारित मानको का प्रयोग भी नहीं किया है। ऐसे में अब नवनियुक्त शिक्षक को हटाया जाना तर्क संगत नहीं होगा, किन्तु लगभग 5 वर्ष बीत चुका है इसलिए संदीप कुमार शर्मा की नियुक्ति सहायक आचार्य सामाजिक विषय के पद पर की जाये। यह आदेश 26 दिस0 2017 को जारी किया गया था लेकिन अभी तक संदीप कुमार की नियुक्ति नहीं की गयी है जो जांच का विषय है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें