< प्रदेश में मालथौन से शुरू हुआ स्वजल पायलट प्रोजेक्ट: गृहमंत्री Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News प्रदेश में सबसे पहले शुरू हो रहे स्वजल पायलट प्रोजेक्ट का शुभार"/>

प्रदेश में मालथौन से शुरू हुआ स्वजल पायलट प्रोजेक्ट: गृहमंत्री

प्रदेश में सबसे पहले शुरू हो रहे स्वजल पायलट प्रोजेक्ट का शुभारंभ शुक्रवार को गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने मालथौन में किया। केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के अंतर्गत यह प्रोजेक्ट देश के छह राज्यों में शुरू किया जा रहा है। 

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मंत्री श्री सिंह ने कहा कि मालथौन में पेयजल की समस्या शुरू से रही है। स्वजल पायलट प्रोजेक्ट की शुरूआत मालथौन से हो रही है, यह क्षेत्र के लिए गर्व की बात है। उन्होंने बताया कि इसकी राशि भारत सरकार से प्राप्त होगी। कुछ अंशदान स्थानीय ग्राम पंचायत का रहेगा। इसका संचालन जनभागीदारी से कराया जाएगा। संचालन के लिए ग्राम स्तरीय समिति का गठन किया जाएगा। योजना में स्वच्छता मिशन समिति गठित होगी। इसमें जिला स्तरीय और ग्राम स्तरीय समितियां रहेंगी। संचालन में मार्गदर्शन के लिए तकनीकी समिति रहेगी। 

 मंत्री श्री सिंह ने बताया कि मालथौन ब्लाक में पेयजल के लिए उन्होंने पहले ही 18 नल जल योजनाएं स्वीकृत कर दीं थीं। इनमें से कुछ का निर्माण पूरा हो चुका है, कुछ का चल रहा है। इनसे ग्राम झीकनी में घर-घर पानी पहुंचने लगा है। बाकी योजनाओं का काम भी एक-दो हफ्ते में पूरा हो जाएगा। मालथौन में पेयजल की व्यवस्था के लिए तीन करोड़ रूपए मंजूर कराए थे। इसमें जिन क्षेत्रों में पानी की कमी है वहां पाइप लाइन से पानी पहुंचाया जाएगा। पाइप भी खरीदे जा चुके हैं। नई लाइन बिछाने का काम शुरू हो रहा है। जहां जरूरत होगी वहां टंकी बनाई जाएगी। अब नगर पंचायत बन जाने से मालथौन में बजट की भी समस्या नहीं होगी। स्थानीय तालाब का गहरीकरण किया जा रहा है। बांध के लीकेज सुधारे जा रहे हैं। 

मंत्री श्री सिंह ने कहा कि बीना नदी परियोजना और बहरोल बंडा में बन रहे धसान बांध का लाभ भी क्षेत्र के किसानों को मिलेगा। इन दोनों योजनाओं के शुरू हो जाने के बाद मालथौन ब्लाक के हर खेत में नहरों से पानी पहुंचने लगेगा। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि जब विकास होता है तो रोजगार के अवसर भी बढ़ते हैं। मालथौन क्षेत्र में दुग्ध संघ का प्लांट स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है। यहां बैंकों की कमी देखते हुए और ब्रांच खोली जाएंगी। मालथौन में कॉलेज खुल चुका है और अब आईटीआई भी खोली जा रही है। इससे बच्चों को तकनीकी शिक्षा मिल सकेगी।

वन विभाग से लेकर ढाई एकड़ जमीन मालथौन पंचायत को बस स्टेण्ड बनाने के लिए उपलब्ध करा दी गई है। यहां चार करोड़ रूपए की लागत से बस स्टेण्ड बनाया जा रहा है। छह करोड़ की लागत से कॉलेज भवन, एक करोड़ से किले का सौंदर्यीकरण कराया गया है। यहां अगली नवरात्रि में महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। इसके साथ ही यहां पार्क, ऑडीटोरियम, स्टेडियम आदि बनना है। कार्यक्रम में पीएचई के अधिकारी, एसडीएम, तहसीलदार और बड़ी संख्या में क्षेत्र के नागरिक मौजूद थे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें