< नया सत्र प्रारम्भ फिर भी नही खुले स्कूलों के ताले Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जनपद के तहसील अंतर्गत संचालित सरकारी स्कूलों की हालात बहुत बेक"/>

नया सत्र प्रारम्भ फिर भी नही खुले स्कूलों के ताले

जनपद के तहसील अंतर्गत संचालित सरकारी स्कूलों की हालात बहुत बेकार हैै। शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूल आते हैं उनमें से 90 फीसदी स्कूलों में नया शिक्षण सत्र शुरू होने के बावजूद स्कूलों का ताला ही नहीं खुलता है। ताले को देखकर बच्चे घर वापस लौट जाते हैं और अगर बात करे शिक्षक की तो वो आते ही नहीं है।

तहसील क्षेत्र के ग्राम सिंहपुर, दीवानजू का पुरवा, खिरी, मलका, मटौंधाबेसन, बुड़रक, ढिगपुरा, गुरजारी, करोला, गौरारी और गणेशपुरा में संचालित प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं के बुरे हाल हैं। इन स्कूलों में अक्सर ताले लटके रहते हैं। स्कूल में लगे तालों को देखकर बच्चे परिसर में खेलने के बाद घर लौट जाते हैं। कभी-कभी शिक्षक आते हैं तो एक दो घंटे बैठकर अपने घर चले जाते हैं। न तो स्कूलों में पढ़ाई हो रही है न ही शिक्षकों की मनमानी थम रही है। 

बताते चले कि नए सत्र से शिक्षा विभाग ने सीबीएसई पेटर्न पर स्कूलों को अप्रैल माह से खोलने का निर्णय यह सोचकर लिया था कि अप्रैल माह से पढ़ाई शुरू हो जाएगी और सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर में सुधार होगा। सरकार की इस मंशा को शिक्षक पलीता लगाने में तुले हैं। एक अप्रैल से स्कूल खुल गए और नया सत्र शुरू हो गया इसके बावजूद न तो प्रवेशोत्सव में बच्चों को पुस्तकें बांटी गई न अभी तक मिल सकी हैं। ग्राम बेदार की शासकीय माध्यमिक शाला के बच्चों ने बताया कि वे पिछले दो वर्ष से आसपास के गांव से इस स्कूल में पढ़ने आते हैं लेकिन उन्हें आज तक आने जाने के लिए साइकिल नहीं दी गई है। सवाल है कि आखिर ये पुस्तकें और साइकिलें कहां गई।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें