आज पीएम नरेंद्र मोदी और राज्यपाल राम नाईक की उपस्थिति में मुख्यम"/>

यूपी मंत्रिमण्डल: बुन्देलखण्ड को मिला ठेंगा, सिर्फ एक ही क्यों?

आज पीएम नरेंद्र मोदी और राज्यपाल राम नाईक की उपस्थिति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रीमण्डल सहित पद एवं गोपनीयता की शपथ ली । आपको बता दें कि विधायक दल की हुई बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई गई थी । लेकिन आज के शपथ ग्रहण समारोह में सबसे बड़ी बात यह रही कि योगी सरकार के कैबिनेट में बुन्देलखण्ड के सभी 19 विधायकों में से सिर्फ एक मनोहर लाल 'मन्नू कोरी' जो कि महरौनी विधानसभा (ललितपुर) से विधायक हैं उन्हें कैबिनेट में मौक़ा दिया गया है ।

अगर मौजूदा समय की बात करें तो बुन्देलखण्ड जहाँ इस बार भाजपा ने ऐतिहासिक जीत करते हुए सभी 19 विधानसभा सीटों पर कब्जा किया है ।  विशेषज्ञों द्वारा कहा जा रहा था कि बुन्देलखण्ड से कम से कम 3 से 4 विधायकों को योगी सरकार के कैबिनेट में मौक़ा मिलेगा लेकिन ऐसा नही हुआ । सिर्फ एक विधायक को ही मौक़ा मिला है ।

सबका साथ-सबका विकास का नारा लेकर चल रही भाजपा सरकार ने बुन्देलखण्ड के चुने हुए प्रतिनिधियों में से सिर्फ एक विधायक को अपने कैबिनेट में मौक़ा देकर यहाँ के लोगो को थोड़ा निराश किया है । पहले की सरकारो में भी बुन्देलखण्ड को उतना महत्व नही दिया गया । सिर्फ चुनावो के समय में इस क्षेत्र को महत्व दिया जाता है क्योंकि उस समय वोटों का सवाल होता है लेकिन इसके बाद फिर बुन्देलखण्ड को निराशा ही हाथ लगती है । इसका एक और कारण यह भी है कि बुन्देलखण्ड में कोई ऐसा कद्दावर नेता भी नही है जिसे मौक़ा देने के लिए पार्टी को सोंचना न पड़े । अब आप ही सोंचिये कि जब बुन्देलखण्ड से यूपी सरकार के कैबिनेट में कोई मंत्री नही होगा तो यहाँ की मुख्य समस्यायों को कौन उठाएगा ? और जब समस्याएं मजबूती से उठाई नही जाएंगी तब तक क्षेत्र का विकास सम्भव नही है ।

बुन्देलखण्ड की समस्यायों की अगर बात करें तो यहाँ किसानों और मजदूरों द्वारा लगातार की जा रही आत्महत्याएं  , अन्ना प्रथा , लोगो का पलायन , खेती के लिए पानी की उचित व्यवस्था न होना , रोजगार न होना , पर्यटन का विकास न होना जैसी बड़ी समस्याये हैं और शायद इन्ही समस्यायों से निजात पाने के लिए बुन्देलखण्डवासियों ने भाजपा को ऐतिहासिक बुंदेलीजनादेश दिया है ।

बहरहाल , आज हुए शपथ ग्रहण समारोह में योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली । इसके बाद बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली । लखनऊ के मेयर डॉ. दिनेश शर्मा ने डिप्टी सीएम की शपथ ली । दिनेश शर्मा गुजरात के प्रभारी हैं और पीएम मोदी के करीबी माने जाते हैं  ।

 



चर्चित खबरें