< कोंच से भिंड नई रेल लाइन की मांग उठी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News कोंच से भिंड तक नई रेल लाइन की स्वीकृति ने जोर पकड़ना श"/>

कोंच से भिंड नई रेल लाइन की मांग उठी

कोंच से भिंड तक नई रेल लाइन की स्वीकृति ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया है। यह रेल लाइन कुल 85 किली. तक बिछनी है। लाइन का सर्वे भी पूरा हो चुका है। लेकिन रेलवे इस प्रोजेक्ट पर अपनी ओर से कोई रूचि नही दिखा रहा है। रेवले की इसी बरताव को देखते हुए नदीगांव के ग्रामीणों ने सांसद को ज्ञापन सौंपा और इस प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द पूरा कराने की मांग की। वहीं गांव के प्राचीन बड़ा मंदिर के महंत ने रेल मंत्री को पत्र भेज लाइन बिछवाने की स्वीकृति देने की मांग की है।

आपको बता दे कि वित्तीय वर्ष 2016-17 में स्वीकृत कोंच से भिंड तक नई को रेलवे मालभाड़े के नजर से फायदे का सौदा नहीं मान रहा है। इधर, वर्षों से रेल आवागमन को लेकर राह तक रहे लोगों ने इस दिशा में कदम बढ़ाने की आवाज उठानी शुरू कर दी है। हालांकि रेलवे विभाग कई बार नई रेल लाइन बिछाने के लिए सर्वे करा चुका है।

वर्ष 1901 में जब एट कोंच शटल चलाई गई थी, तब कोंच दिबियापुर नई रेल लाइन का सर्वे कराया गया था। आजादी के बाद केन्द्र सरकार ने कोंच फफूंद रेल लाइन का सर्वे करवाया। उसके बाद में कोंच-भ्ंिाड एवं कोंच जालौन उरई रेल लाइन का सर्वे हुआ। कोंच भिंड, कोंच जालौन उरई तथा उरई महोबा नई रेल लाइन निर्माण को हरी झंडी देकर स्वीकृति प्रदान कर दी गई। रेल लाइन निर्माण के लिए धन स्वीकृत नहीं किया गया।

नगर के व्यापारियों, बुद्धजीवियों क्षेत्रीय नागरिकों ने उत्तर मध्य रेलवे के जीएम के माध्यम से रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को पत्र भेजे थे, जिसमें कहा गया था कि नई रेल लाइन निर्माण के बाद क्षेत्र का विकास तो होगा ही। साथ ही माल भाड़ा भी बढ़ेगा। सूत्र की माने तो इसी बीच रेलवे ने कोंच भिंड रेल लाइन को घाटे की रेल समझकर उससे किनारा कर लिया है।

 

About the Reporter

  • ,

अन्य खबर

चर्चित खबरें