?> जगद्गुरू रामभद्राचार्य ने अलग बुन्देलखण्ड राज्य का उठाया मुद्दा बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ पद्म विभुषण जगतगुरू रामभद्राचार्य ने अलग बुन्देलखण्ड राज्य का "/>

जगद्गुरू रामभद्राचार्य ने अलग बुन्देलखण्ड राज्य का उठाया मुद्दा

पद्म विभुषण जगतगुरू रामभद्राचार्य ने अलग बुन्देलखण्ड राज्य का मुद्दा उठाकर इस मुद्दे को फिर से हवा दे दी है। जगतगुरू रामभद्राचार्य दिव्यांग विश्वविद्यालय चित्रकूट के कुलाधिपति रामभद्राचार्य ने कल शाम रेलवे स्टेशन रोड स्थित बुन्देलखण्ड विकास सोसायटी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जहां वे प्रथम बुन्देलीरत्न सम्मान से सम्मानित होने के बाद लोगों को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मैने पहले भी कहा है कि बुन्देलखण्ड का विकास तभी होगा जब बुन्देलखण्ड राज्य बनेगा। जब तक बुन्देलखण्ड राज्य नही बनता तब तक विकास की बात करना बेमानी है। उन्होंने कहा कि भाजपा भी छोटे-छोटे राज्यों की पक्षधर है। भाजपा ने ही अपने कार्यकाल में उत्तराखण्ड, छत्तीसगढ़, झारखण्ड को अलग राज्य बनाया है और अब बुन्देलखण्ड की बारी है।

रामभद्राचार्य ने कहा कि अगर बुन्देलखण्ड राज्य बनेगा तो चित्रकूट उसकी राजधानी बनेगी। इसके लिए मै हर संभव प्रयास करूंगा कि राजधानी चित्रकूट ही बने। राम भद्राचार्य पहले भी अलग बुन्देलखण्ड राज्य का समर्थन कर चुके है। अब जब केन्द्र व राज्य में प्रचण्ड बहुमत वाली भाजपा की सरकारे है ऐसे में अलग बुन्देलखण्ड की मांग उठाने के मायने खोजे जा रहे है।

इसके पहले केन्द्रीय मंत्री उमा भारती कई बार बुन्देलखण्ड राज्य की मांग उठा चुकी है और केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह व उमा भारती ने 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा की सरकार बनने पर प्रथक बुन्देलखण्ड राज्य बनाने का वायदा किया था। इसके बाद कई बार बुन्देलखण्ड राज्य की मांग उठ चुकी है। इसके लिए तमाम आन्दोलन भी होते रहते है।



चर्चित खबरें