?> ख़बर का असर - नवोदय विद्यालय में हो रहे भ्रष्टाचार के मामले में एसडीएम ने दिये जाँच के आदेश बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ विगत दिनों बुन्देलखण्ड न्यूज टीम ने चित्रकूट जिले मे"/>

ख़बर का असर - नवोदय विद्यालय में हो रहे भ्रष्टाचार के मामले में एसडीएम ने दिये जाँच के आदेश

विगत दिनों बुन्देलखण्ड न्यूज टीम ने चित्रकूट जिले में मानिकपुर क्षेत्र के नवोदय विद्यालय में हो रहे भ्रष्टाचार के मामले को उजागार किया था। बुन्देलखण्ड न्यूज के विशेष संवाददाता अनुज हनुमत ने बताया कि कैसे एक शिक्षा के मन्दिर का निर्माण बालू के स्थान पर मिट्टी और साथ ही अन्य घटिया सामग्री के प्रयोग के साथ किया जा रहा है। रिपोर्ट में हमने बताया था कि कैसे सरकारी नियम व कानून को अंगूठा दिखाकर ठेकेदार निर्माण कार्य में बालू के स्थान पर मिट्टी का प्रयोग कर रहे हैं।

बुन्देलखण्ड न्यूज़ के विशेष संवाददाता ने इस सम्बन्ध में समाधान दिवस पर एसडीएम रामशंकर से मुलाकात कर नवोदय विद्यालय में हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ बात की और साथ ही जाँच कराने के लिए प्रार्थना पत्र भी दिया। प्रार्थना पत्र देते ही एसडीएम रामशंकर ने तुरन्त जाँच के आदेश दे दिये। लेकिन अभी भी सबसे बड़ा प्रश्न है कि आखिर कैसे लगातार 1 वर्ष से विद्यालय में घटिया निर्माण कार्य प्रशासन की नाक के नीचे होता रहा और किसी को पता भी नहीं चला। क्या कभी कोई भी उच्च अधिकारी आज तक नव निर्माण बिल्डिंग में जाँच करने गया? अगर गया है तो उसने क्या जाँच की?

ऐसे ही भ्रष्टाचार से बनी बिल्डिंग और चारदीवारियाँ कुछ सालों में ढहकर गिर जाती हैं। और न जाने कितने लोग इन बिल्डिंगों के नीचे आकर मर जाते हैं। सरकार तो बस कुछ मुआवजा देकर अपना पीछा छुड़वा लेती है। सरकार को मुआवजा देना तो ठीक लगता है लेकिन ईमानदारी से काम की जाँच करवाना नहीं।

विद्यालय में हो रहे भ्रष्टाचार की सूचना चित्रकूट जिलाधिकारी के साथ-साथ मुख्यमंत्री कार्यालय और प्रधानमंत्री कार्यालय को भी भेज दी गई है। सूत्रों से मिली जानकारी में इस कार्य में बड़े-बडे सफेदपोशों का हाथ भी लग रहा है।

मानिकपुर: जवाहर नवोदय विद्यालय में हो रहे निर्माण कार्य में बालू की जगह प्रयोग की जा रही मिट्टी

http://www.bundelkhandnews.com/category_news_detail.php?id=7963

 



चर्चित खबरें