?> इसरो की अंतरिक्ष में एक और कामयाबी, लांच हुआ GSAT-17 तलाशी और बचाव के काम में अहम बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़

इसरो की अंतरिक्ष में एक और कामयाबी, लांच हुआ GSAT-17 तलाशी और बचाव के काम में अहम

अंतरिक्ष में भारत को एक और कामयाबी मिली है। बीती रात दो बजकर 29 मिनट पर कोरू के फ्रेंच गुयाना के प्रक्षेपण केंद्र से इसरो ने जीसैट सैटेलाइट लॉन्च कर दिया है। GSAT-17 आधुनिक संचार उपग्रह है। इसके जरिए मौसम की सटीक जानकारी मिलेगी साथ ही आपदा के समय राहत और बचाव के काम में ये सैटेलाइट अहम जानकारियां देगा।

लगभग 3477 किलोग्राम के वजन वाले जीसैट-17 में संचार संबंधी विभिन्न सेवाएं देने के लिए नॉर्मल सी-बैंड, एक्सटेंडेड सी-बैंड और एस-बैंड वाले पेलोड हैं। इसमें मौसम संबंधी आंकड़ों के प्रसारण वाला यंत्र भी है और उपग्रह की मदद से खोज एवं बचाव सेवाएं उपलब्ध करवाने वाला यंत्र भी। अब तक ये सेवाएं इनसैट उपग्रह उपलब्ध करवा रहे थे।

यूरोपीय प्रक्षेपक एरियनस्पेस फ्लाइट वीए 238 ने कौओरू के एरियन लॉन्च कॉम्पलेक्स नंबर 3 से उड़ान भरी। कौओरू दक्षिण अमेरिका के पूर्वोार तट पर स्थित एक फ्रांसीसी क्षेत्र है। इस उड़ान में निर्धारित समय से कुछ मिनट की देरी हुई। भारतीय समयानुसार इसे रात दो बजकर 29 मिनट पर उड़ान भरनी थी।