< बुन्देलखण्ड की पहली समलैगिंग शादी, आखिर क्या थी लड़कियों की मजबूरी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News समाज के लोग बालिग होना स्वतंत्रता का प्रतीक मानते है।"/>

बुन्देलखण्ड की पहली समलैगिंग शादी, आखिर क्या थी लड़कियों की मजबूरी

समाज के लोग बालिग होना स्वतंत्रता का प्रतीक मानते है। जब दो युवा बालिग होते है तो अपने प्यार पाने के लिये सामाजिक मर्यादाओ को भूल कर कुछ ऐसा करते है जो एक चर्चा का विषय बन रहता है। ऐसा ही एक मामला जनपद हमीरपुर में बुन्देलखंड के दो जिलो की दो युवतियों का प्यार परवान चढ़ने पर एक साथ रहने की कसम खा ली। और दोनो जिले की दो युवा जवान युवतियां हमीरपुर आकर समलैगिंग शादी कर लोगो को सकते मे डाल दिया है। जैसा की जानकारी मिली है कि एक युवती हमीरपुर तो दूसरी महोबा जिले की है। उसका परिवेश एक लडकों की तरह और दूसरी प्रेमिका की तरह बनकर आई थी। अपने प्यार पर मुहर लगवानें दोनो हमीरपुर कचहरी पहुची तो चर्चा का केन्द्र बन गई। दोनों ने साथ रहने के हलफनामें की नोटरी कराई और एक काॅपी कलेक्ट्रेट को सौंप दी।

पुरूष वेष मे रहने वाली युवती बाइक से प्रेमिका को लेकर कचहरी पहुची। उनके हाव भाव देखकर हर कोई आश्चर्य मे पड गया। धीरे धीेरे खबर फैली तो लोग जुटने लगे। मीडिया के लोग भी पहुच गए। इनमे एक युवती नीली जींस और आसमानी शर्ट पहने थी, तो दूसरी पिंक सलवार कमीज मे थी। पुरूष वेष मे रहने वाली युवती हमीरपुर जिले के मुस्करा क्षेत्र के एक गांव की है, दूसरी युवती महोबा की। दोनो काफी समय से साथ रह रही है। उनके घर वालो को भी कोई आपत्ति नही है। अब दोनो अपने रिश्ते को कानूनी मान्यता दिलाने की कोशिश मे है। इनमे पुरूष बनकर रहने वाली युवती की उम् 25 और दूसरी की 22 साल है। 22 साल की युवती नर्सिग की छात्रा है। और तो और पुरूष वेष मे रहने वाली युवती की चाल ढाल भी बिल्कुल पुरूषों जैसी है।

लोगो के जुटने पर जींस शर्ट पहने युवती भडक गई। उसने धमकी दी कि उनके घर वालों को इस रिश्ते पर कोई ऐतराज नही है, फिर लोगो से क्या मतलब, और कहा कि उनकी फोटो या खबर न तो छापी जाए न ही चैनलो पर दिखाई जाये। हालांकि फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। यह भी पता चला कि इस जोडे ने भगवान को साक्षी मानकर 20 मई को ही मंदिर मे सात फेरे लेकर शादी कर ली थी। मगर कानूनी मान्यता के लिये हलफनामा तैयार कराया है। कुछ ने जोडे का समर्थन करते हुये इसे आजादी बताया तो कुछ ने कहा कि यह कुदरत के कानून के खिलाफ है। इन दोनो युवतियो ने शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित नोटरी कार्यालय मे जिलाधिकारी को संबोधित एक हलफनामा मे नोटरी कराई। जिसमे दोनो ने बालिग होने का हवाला देते हुए अपनी मर्जी से एक साथ पति पत्नी के रूप मे रहने का उल्लेख किया है। दोनो युवतियां एक ही छत के नीचे कानूनी रूप से रहने को तैयार है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें