< बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के शिलान्यास की नई तिथि आने से बढी सरगर्मी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा,

केंद्र और यूपी स"/>

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के शिलान्यास की नई तिथि आने से बढी सरगर्मी

 

बांदा,

केंद्र और यूपी सरकारों के ड्रीम प्रोजेक्ट बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के शिलान्यास की रस्म प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की जानी हैं। इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने 29फरवरी की नई तिथि की घोषणा कल लखनऊ में की है।शिलान्यास  की संभावना के मद्देनजर एक फिर इसकी तैयारियां तेज हो गई हैं। एक्सप्रेसवे चित्रकूट के भरतकूप के पास से शुरू हो रहा है।

यह बांदा, हमीरपुर, जालौन, औरैया होते हुए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-91 (इटावा-बेवर मार्ग) से लगभग 16 किलोमीटर पहले कुदरैल गांव के पास खत्म होगा। एक्सप्रेस-वे 4 से 6 लेन चैड़ा और 296.07 किलोमीटर लंबा होगा। इसमें जनपद के सदर, बबेरू, अतर्रा तहसील के 49 गांवों की करीब पांच सौ हेक्टेयर जमीन सरकार ने खरीदी है। सर्वे व जमीन के चिह्नीकरण आदि का कार्य पूरा होने के बाद शहर से लगे चहितारा गांव में जमीन का समतलीकरण का काम शुरू हो गया है। किसानों को सर्किल रेट का चार गुना जमीनों की कीमत उनके खातों में भेजी गई है।

सदर तहसील में तहसीलदार अवधेश कुमार निगम और सब रजिस्ट्रार राकेश कुमार मिश्रा की देखरेख में किसानों ने सहमति पत्र बनवाकर जमीन का बैनामा कराया। बैनामा के बाद  किसानों के खातों में  धनराशि आनलाइन भेजी गई। प्रदेश सरकार ने जमीन के बैनामा आदि के लिए एक अरब रुपये की धनराशि प्रशासन को भेजी है। तहसीलदार ने बताया कि  लगातार रजिस्ट्री का कार्य तीनों तहसीलों में चला। सदर में सबसे ज्यादा मवई, महोखर, पिपरी, जारी, मोहन पुरवा, दोहा, कनवारा, जमालपुर, चहितारा आदि गांवों के 1591 किसान बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के दायरे में आ रहे हैं। इनकी 297 हेक्टेअर जमीन की रजिस्ट्री की गई है। जबकि बबेरू में 215 और अतर्रा में 61 किसानों की करीब 90 हेक्टेअर जमीन शामिल है।

बताते चलें कि इससे पहले भी मुख्यमंत्री ने पिछले वर्ष मई मे घोषणा की थी कि प्रधानमंत्री अगस्त माह में एक्सप्रेस वे का शिलान्यास करेंगे। इसके बाद उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश अवस्थी ने अगस्त में बताया था कि प्रधानमंत्री अक्टूबर में शिलान्यास करेंगे। बाद में तिथि बढ़ते-बढ़ते 19 जनवरी 2020 तक पहुंच गई और अब एक बार फिर मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री द्वारा 29 फरवरी को एक्सप्रेस वे का शिलान्यास करने की घोषणा की है, अब देखना है कि क्या नियत तिथि पर शिलान्यास होगा या एक बार फिर यह तिथि बढ़ जाएगी।

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे एक नजर में
- लागत- 14,89,09 करोड़
- जनपद- 07
- प्रभावित गांव- 182
- प्रस्तावित क्षेत्रफल- 3643.6431 एकड़
- किसानों की संख्या- 20,461
- बैनामों की संख्या- 10,344
- किसानों को भुगतान की प्रस्तावित राशि- 18 अरब 43 करोड़ 68 लाख 84 हजार 635 रुपये
- स्टांप शुल्क- 98 करोड़ 79 लाख 30 हजार 153 रुपये
- निबंधन शुल्क- 14 करोड़ 71 लाख 15 हजार 468 रुपये
- कुल धनराशि- 19 अरब 57 करोड़ 19 लाख 30 हजार 256 रुपये
- अधिग्रहीत/क्रय भूमि- 3462.1579 हेक्टेयर

अन्य खबर

चर्चित खबरें