< बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान का ताज झांसी को Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा, 

चि"/>

बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान का ताज झांसी को

बांदा, 

चित्रकूट और बांदा क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे

बांदा, विगत वर्षों के भाति इस वर्ष भी बुन्देलखण्ड के सबसे बड़े शिक्षा सम्मान 'बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान 2019' का आयोजन 'कालीचरण निगम इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' नरैनी रोड बांदा में किया गया। गुरुवार को इस खिताब के लिए हुए मेगा फाइनल में झांसी की टीम ने बाजी मारी जबकि चित्रकूट और बांदा की टीम क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रही। प्रतिभागी छात्रों को प्रदेश के राज्य मत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने सम्मानित किया। विजेता टीम को 11-11 हजार रुपये का चेक व उप विजेता को 51 सौ रुपये की चेक प्रदान किया। इसके पहले कार्यक्रम की शुरुआत हमीरपुर के विधायक युवराज सिंह बांदा विधायक प्रकाश द्विवेदी, राज्य महिला आयोग प्रभा गुप्ता बुन्देलखण्ड चैम्बर ऑफ कामेर्स के महासचिव धीरज खुल्लर ने दीप प्रज्वलित कर और कॉलेज के बच्चों द्वारा प्रस्तुत की गई गणेश वंदना से हुई। 

 

 

कालेज के चेयरमैन अरुण निगम ने कार्यक्रम के शुरुवात में परीक्षा में सफल हो कर मेगा फ़ाइनल में भाग ले रहे छात्र छात्राओं का स्वागत व बधाई देते हुए कहा कि प्रतिभा किसी सामाजिक आर्थिक परिस्थिति पर निर्भर नही करती हैं कहा कि इतिहास गवाह हैं जिंहोने विभिन्न क्षेत्रो में उंचाईओं को छुआ हैं वह साधारण परिवार के थे। श्री निगम ने कहा कि किसी भी प्रतियोगिता में हार जीत महत्वपूर्ण नही हैं। महत्वपूर्ण यह हैं कि आपने कितनी मेहनत और लगन से उसमें भाग लिया और कितना आत्म विश्वास बढ़ा।

 

इसके उपरांत 10 जनपदों से चयनित 2-2 छात्रों की जिलेवार टीम बनाई गई। टीम की क्विज प्रतियोगिता हुई, प्रतियोगिता में बांदा हमीरपुर चित्रकूट झांसी और छतरपुर के छात्र-छात्राएं अगले राउंड के लिए क्वालीफाई हुए। इन पांचो टीमों के बीच कड़ा मुकाबला हुआ।अंतिम बर्जर राउंड में झांसी के छात्रों ने सर्वाधिक 110 अंक हासिल करके बाजी मारी जबकि बांदा चित्रकूट के छात्र क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर खिसक गए। विजेता टीम में पवित्र लालवानी आरएन वर्ल्ड स्कूल झांसी और शैलेंद्र पटेल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज मऊरानीपुर के छात्र हैं। इसी तरह दूसरे स्थान पर रही चित्रकूट की टीम में बृजराज मिश्र सुरेंद्र पाल ग्रामोदय विद्यालय चित्रकूट और शशिकांत सिंह ज्ञान भारती इंटर कॉलेज कर्वी के छात्र हैं। बांदा की टीम में सरस्वती विद्या मंदिर की नीलम गुप्ता व तथागत ज्ञानस्थली अतर्रा के छात्र रितेश कुमार शामिल  रहे। 

 

 

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहे प्रदेश के राज्य मंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने बच्चों को पुरस्कृत करते हुए उनकी हौसला अफजाई की और कहा कि जो बच्चे प्रतियोगिता में असफल हो जाते हैं उन्हें निराश नहीं होना चाहिए। प्रतियोगिता में भाग लेना ही महत्वपूर्ण होता है, जिन्हें पुरस्कार नहीं मिला उन्हें अगले साल कड़ी मेहनत कर प्रतिभागी बनने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने कालीचरण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी संस्था की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस संस्था ने वास्तव में बुन्देलखण्ड के छात्रों को आगे बढ़ाने का काम किया।  उन्होंने इस प्रतियोगिताओं को प्रेरणादायक बताया। इसी तरह बांदा के सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने संस्था और संस्था द्वारा आयोजित बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान की प्रशंसा की और कहां की पहले हमारे क्षेत्र के बच्चे नोएडा कानपुर और गाजियाबाद जाते थे लेकिन आज इस संस्था ने इसी जिले में छात्रों को सारी सुविधाएं उपलब्ध करा दी है जिससे उन्हें बाहर जाने की जरूरत नहीं है।

 

 

इसी क्रम में हमीरपुर सदर के विधायक युवराज सिंह ने भी प्रतिभागी छात्र छात्राओं को बधाई दी और संस्था के चेयरमैन अरुण निगम की प्रशंसा की उन्होंने कहा कि जब उन्होंने यहां पर इस संस्था की नींव डाली तो अनेक लोगों ने असफल होने की बात कही थी लेकिन आज यह संस्था उत्तर प्रदेश ही नहीं पूरे भारत में अपना अलग पहचान रखती है उन्होंने कहा कि श्री निगम ने अपनी माता पिता के नाम पर यह संस्था स्थापित कर सबसे बड़ा दान किया  हैं। बताते चलें कि पिछले 9 वर्षों से कालीचरण निगम इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा बुन्देलखण्ड प्रतिभा सम्मान परीक्षा आयोजित की जाती है इसमें 10 जनपदों के परीक्षार्थी शामिल होते हैं। 

 

 

परीक्षा के संयोजक श्यामजी निगम ने पिछले नौ वर्षों से आयोजित की जा रही बुन्देलखण्ड प्रतिभा परीक्षा की रूपरेखा प्रस्तुत की।जबकि कार्यक्रम का संचालन श्रेष्ठा कंचन तिवारी, स्तुति शर्मा व शक्ति सिंह ने किया। कार्यक्रम के अंत में कालेज के डीन एसपी शुक्ला ने आभार व्यक्त किया।  

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times