< माफिया चाहिए या जनप्रतिनिधि : रंजना पाण्डेय Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @सौरभ चन्द्र द्विवेदी,<"/>

माफिया चाहिए या जनप्रतिनिधि : रंजना पाण्डेय

@सौरभ चन्द्र द्विवेदी, चित्रकूट  

रंजना पाण्डेय कांग्रेस प्रत्याशी हैं और वो बातों बातों में राजनीति का दर्शन कम शब्दों में प्रस्तुत करती हैं। उन्होंने चुनावी समय में एक बड़ी बात कही कि जनता को माफिया चाहिए या जनप्रतिनिधि ? उनकी बात यहीं नहीं खत्म होती बल्कि वे कहती हैं कि जिस प्रकार से चुनाव का माफियाकरण हो रहा है वह जनता के भविष्य के लिए बड़ा खतरनाक है। कोई अरबों का मालिक चुनावी मैदान में सिर्फ और सिर्फ पैसे के दम पर कूदता है, जबकि जनसेवा के नाम पर उसकी अपनी व्यक्तिगत कोई उपलब्धि नहीं हो तो यह कितना बड़ा पाप है ! 

 

उन्होंने कहा कि राजनीति में बढ़ती धन की प्रासंगिकता खतरनाक पहलू है। एक आम मध्यमवर्गीय व्यक्ति चुनाव लड़ने को सोच ही नहीं सकता। चूंकि अब अरबपति बालू माफिया चुनाव लड़कर विधानसभा पहुंचने का ख्वाब बुन लेते हैं। 

 

ऐसे में जनता ही फैसला करेगी कि वह माफियाओं को घर वापसी का फरमान सुनाए और जो वास्तव में जनसेवा करने का भाव रखता है, उसे चुनकर विधानसभा भेजे। अन्यथा तय मानिए कि कोई धनपशु आकर सीधे-सीधे पैसे के दम पर चुनाव जीतेगा तो वह एक दिन पैसा अवश्य ठिकाने लगाएगा। 

 

अब जनता ही विचार करे कि किसके हाथों को मजबूत करना चाहिए। ग्लैमर दिखाने वाले लोग सिर्फ ग्लैमर की दुनिया में जिया करते हैं। गांव - गली के विकास और जनता को न्याय दिलाने के लिए सरल स्वभाव से धनी प्रत्याशी उत्तम विकल्प है। इसलिये जनता से उम्मीद है कि समय रहते विचार करेगी। 

 

यह बात सच है कि जिस प्रकार से राजनीति में करोड़ो का खेल होता जा रहा है। यह भविष्य के अच्छे संकेत नहीं है। इसलिये युवाओं को स्वविवेक का प्रयोग कर लोकतंत्र के धर्म युद्ध में सही व्यक्ति के चुनाव हेतु तेजी से जनता को जागरूक करना चाहिए। माफिया को घर वापसी का रास्ता दिखाकर जनसेवा के भाव को विजयी बनाएं। उन्होंने कहा कि मैं हमेशा सबके बीच रही हूँ और हमेशा जनता की सेवा करूंगी।  

 

 

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times