< हे राम : मंदाकिनी को अपावन कर रहे अपने Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @शुभम राय त्रिपाठी, चि"/>

हे राम : मंदाकिनी को अपावन कर रहे अपने

@शुभम राय त्रिपाठी, चित्रकूट

मंदाकिनी को अपावन करने का काम इन दिनों नगर पंचायत क्षेत्र में जोर शोर से किया जा रहा है। हैरत की बात यह है कि मंदाकिनी में, खुले आम गंदगी डाले जाने के बाद भी न तो स्‍थानीय लोगों ने कोई शिकायत दर्ज कराई है और न ही साधू संतों को किसी तरह की आपत्ति है।

पवित्र नगरी चित्रकूट के नयागांव क्षेत्र में मंदाकिनी में बने पुल के नीचे एक सुलभ कांप्‍लेक्‍स बना हुआ है। यहां पर हजारों लोग प्रतिदिन आते हैं। सीवरेज टीटमेंट के नाम पर एक गड्ढा बना दिया गया है। जिसमें गंदगी भर जाती है। बरसात के दिनों में यह गंदगी ओवरफ़लो होकर सीधे मंदाकिनी नदी में जा रही है। इसके आगे भरतघाट के बाद उत्‍तर प्रदेश का राघव प्रयाग घाट आता है, जहां पर भगवान श्री राम ने अपने पिता दशरथ का तर्पण किया था।

2008 में सदी के महानायक अमिताभ बच्‍चन भी परिवार के साथ आए थे और अपनी माता तेजी बच्‍चन की अस्थियों का विसर्जन यहां पर किया था। इन दिनों मंदाकिनी के राघव प्रयाग घाट पर पयस्‍वनी व सरयू की त्रिवेणी में पिंड तर्पण के लिए पूरे देश से लोग आ रहे हैं। विचारणीय बात यह है कि कई बार जब लोग यहां पर स्‍नान करते हैं तो मलमूत्र के अवशेष उनके सामने आ जाते हैं। जिसकी वजह से उनका मन खिन्‍न हो उठता है।

स्‍थानीय निवासी मनोज तिवारी कहते हैं कि जहां एक ओर मुख्‍यमंत्री योगी जी के दौरे के पहले व बाद में मंदाकिनी की शुचिता के लिए भरी बरसात में नदी से बोरियों को निकालने के लिए काम किया जा रहा है। नदी में और भी कई तरह से साफ रखने के प्रयास हो रहे हैं। लेकिन मध्‍य प्रदेश क्षेत्र से इस तरह से आने वाली गंदगी के कारण बाहर से आने वाले व स्‍थानीय लोगों को बहुत दिक्‍कत हो रही है।

मंदाकिनी नदी के साथ चित्रकूट के विकास के लिए लगातार प्रयास करने वाले बुंदेली सेना के जिलाध्‍यक्ष अजीत सिंह कहते हैं कि अभी इस मामले की जानकारी मिली है। कल ही जाकर नयागांव नगर पंचायत के सीएमओ से बात करते हैं। समस्‍या के निदान के लिए पूरा प्रयास किया जाएगा।

कहां गुम हो गया डिजायर ग्रुप

स्‍थानीय विधायक नीलांशु चतुर्वेदी ने वर्ष 2007 में डिजायर ग्रुप की स्‍थापना करके मंदाकिनी शुचिता के लिए काफी संघर्ष किया था। उन्‍होंने मंदाकिनी की सफाई को आधार बनाकर चित्रकूट में नगर पंचायत का चुनाव भी लडा था। जीतने के बाद उन्‍होने मंदाकिनी की सुधि नहीं ली। यही हाल उन्‍होंने विधायक बनने के बाद भी किया। इस संबंध में जब उनसे बात करने का प्रयास किया तो फोन नहीं उठा।

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times