< खतरे के निशान से डेढ़ मीटर ऊपर यमुना, किया रौद्र रूप धारण Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @अनिल सिंह आवारा,

खतरे के निशान से डेढ़ मीटर ऊपर यमुना, किया रौद्र रूप धारण

@अनिल सिंह आवारा, बांदा 

कोटा बैराज राजस्थान से छोड़े गए पानी के कारण यमुना नदी का जलस्तर लगातार चौथे दिन भी बढ़ता रहा जो खतरे के निशान से 1 मीटर 20 सेंटीमीटर ऊपर बह रहा है। जिससे दर्जन भर से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में आ गए है। बीतीरात बाढ़ में फंसे लोगों को नाव के सहारे सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। डीएम और एसपी ने बाढ़ संभावित क्षेत्रों प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया है।

जनपद मुख्यालय बांदा से निकली केन नदी का जलस्तर कई दिनों से बढ़ रहा है। यहां बुधवार को नदी का जलस्तर 101.20 मीटर पर था। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक केन और यमुना प्रति घंटे 2-2 सेंटीमीटर बढ़ रही हैं और अभी लगातार बढ़ने की संभावना है। राजस्थान के कोटा बैराज से छोड़े गए पानी से हमीरपुर में यमुना का जलस्तर बढ़ रहा है।

इधर केन नदी का भी जलस्तर बढ़ने से बांदा के चिल्ला से निकली यमुना नदी ने भी रौद्र रूप धारण कर लिया है। यहां के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। ज्यादातर प्राथमिक स्कूलों में बाढ़ का पानी बहुत जाने से स्कूल बंद हो गए हैं हजारों बीघे फसल पानी में नष्ट हो गई है। जिनके घरों में बाढ़ का पानी पहुंच रहा है उन्हें नाव के सहारे सुरक्षित स्थानों में पहुंचाया गया है।

जलस्तर बढ़ने से ग्रामीणों की बढ़ती परेशानी को देखकर प्रशासन की गहरी नींद टूट गई है। बीती शाम जिला अधिकारी हीरालाल और पुलिस अधीक्षक गणेश साहा ने बाढ़ प्रभावित गांवों का भ्रमण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए है। इसके बाद इस इलाके में बनाई गयी 14 बाढ़ चैकियां सक्रिय हो गई है।

इनमें रणछोड़ दास इंटर काॅलेज खप्टिहा, प्राथमिक विद्यालय सिंधनकला, प्राथमिक विद्यालय पैलानी, प्राथमिक विद्यालय पैलानी डेरा, पूर्व माध्यमिक विद्यालय प्यारेलाल, मधुसूदन दास इंटर काॅलेज जसपुरा, प्राथमिक विद्यालय बरेहटा, प्राथमिक विद्यालय मवई घाट, प्राथमिक विद्यालय जवाहर लाल नेहरू इंटर काॅलेज चंदवारा और पूर्व माध्यमिक विद्यालय मडौली कला में बाढ़ चैकियां बनाकर लेखपाल, तहसील कर्मियों को तैनात किया गया है। लेकिन अभी भी प्रशासन द्वारा राहत कार्य शुरू नहीं किए गए हैं। जिससे ग्रामीणों में प्रशासन के प्रति आक्रोश है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times