< वो तरीके जिनसे अपनी बेटी के आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News रेनू, एक प्राइवेट कंपनी में काम करती हैं। उनकी तीन साल की बेटी जि"/>

वो तरीके जिनसे अपनी बेटी के आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं

रेनू, एक प्राइवेट कंपनी में काम करती हैं। उनकी तीन साल की बेटी जिया जरा शर्मिली है। रेनू कहती हैं- अगर कोई मुझे अपनी बेटी के लिए एक गुण चुनने के लिए कहे तो मैं 'आत्मविश्वास' चुनूंगी। बिना आत्मविश्वास के सबकुछ अधूरा है। लड़कियों में आत्मविश्वास होना बेहद जरूरी है।

चाहे स्कूल हो या फिर नौकरी, 21वीं सदी में बिना आत्मविश्वास के नहीं जिया जा सकता है। ये ही वजह है कि जब कोई मेरी बेटी से पांच शब्दों में खुद का वर्णन करने के लिए कहता है तो- वो आत्मविश्वास को सबसे ऊपर रखती है। उसके भीतर आत्मविश्वास को मजबूत करने के लिए कई बार हम उसे खतरे में भी डालने से परहेज नहीं करते। हमने उसके शर्मिले स्वभाव में ही उसके भीतर आत्मविश्वास को मजबूत किया है। 

रेनू की ही तरह हर मां चाहती है कि उसकी बेटी में आत्मविश्वास कूट-कूटकर भरा हो ताकि जीवन के हर मोड़ पर वह परिस्थितियों का बहादुरी से सामना कर सके। बेटियों में आत्मविश्वास को मजबूत करने के लिए बेहद जरूरी है कि बचपन से ही उनकी परवरिश के वक्त उनको चुनौतियों का सामना करने दें, उन्हें किसी चीज को लेकर रोके-टोके ना बल्कि उनके आत्मविश्वास को मजबूत बनाने के लिए हर संभव कोशिश करे ।

Image result for वो तरीके जिनसे अपनी बेटी के आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं

कुछ वक्त पहले 8 से 14 साल की 14,00 लड़कियों पर एक सर्वे हुआ था। इसमें इन लड़कियों के आत्मविश्वास में 30 फीसदी से ज्यादा गिरावट बताई गई थी। सर्वे में कहा गया था कि चार में से तीन लड़कियां असफलता को लेकर डरती हैं और ये ही वजह है कि उनके भीतर आत्मविश्वास मजबूती से नहीं आ पाता। अगर आप भी चाहती हैं कि आपकी बेटी में आत्मविश्वास मजबूत हो तो सबसे पहले उसका कंफर्ट जोन तोड़े और उसे रिस्क लेने दें।

अक्सर घरों में लड़कियों पर कई तरह की रोक टोक लगा दी जाती है। घर से अकेले बाहर निकलने से लेकर रात के वक्त अकेले आने तक उनके मन में कई तरह का डर भर दिया जाता है। ऐसे में वे हर वक्त एक कंफर्ट जोन में रहती हैं और चुनौतियां का सामना करना नहीं सीख पाती हैं। आत्मविश्वास के लिए जरूरी है, बेटियों की सराहना करना। अपनी बेटी की सराहना करें। भविष्य के खतरों को लेकर सूची बनाकर बेटियों को बताएं कि उनका सामना कैसे करें और इन चुनौतियों से कैसे निपटे।

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times