< बेबी को ऐसे सिखाएं चलना, ये सावधानियां बरतें Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News माधुरी की सहेली ने जब उसे बताया कि उसका दस महीने का बेटा विधान चल"/>

बेबी को ऐसे सिखाएं चलना, ये सावधानियां बरतें

माधुरी की सहेली ने जब उसे बताया कि उसका दस महीने का बेटा विधान चलने लगा है, तो वह अपने बेटे को लेकर चिंतित हो गई। दरअसल, माधुरी का बेबी भी विधान के ही बराबर है और और उसने अभी चलना शुरू नहीं किया है। यही बात माधुरी को अखड़ने लगी और वह अपने पारिवारिक डॉक्टर के पास गईं। डॉक्टर ने उसे बताया कि विधान एकदम ठीक है, घबराने की कोई बात नहीं है तब जाकर, माधुरी की जान में जान आई। 

बच्चे की मांसपेशियों को विकसित होने में वक्त लगता है। सबसे पहले गर्दन की मांसपेशियों का विकास होता है और नवजात शिशु अपने धड़ पर नियंत्रण रखना सीखता है। इसके बाद पैर की मांसपेशियों का विकास शुरू होता है। इसलिए, चलना सीखने से पहले बेबी बैठना सीखता है। आप भी अपने बेबी को पहले सही से बैठना सीखाएं। इसके बाद वह घुटनों के बल रेंगना सीखेगा और तब जाकर हल्के-हल्के चलेगा।

 

baby

 

बच्चों के चलने की सामान्य उम्र 9 से 15 महीने होती है। हालांकि ज्यादातर बच्चे 13 से 14 महीने की उम्र में चलना सीखते हैं। कई बार कुछ बच्चे 16-17 महीने की उम्र में भी चलना सीखते हैं। हालांकि अगर आपका बच्चा 18 महीने की उम्र में भी नहीं चल रहा है तो चिंता का विषय जरूर है। ऐसे में आप डॉक्टरी सलाह लें। 

 

baby

 

आइए जानते हैं क्या सावधानियां बरतें....बच्चे को चलने के लिए वॉकर देने से बचें। बच्चे वॉकर पर निर्भर हो जाते हैं और फिर खुद से नहीं चल पाते हैं। पहले बच्चे को हल्का-फुल्का उठना, गिरना और चलना सीखने दें। अगर आपका बच्चा एक बार वॉकर से गिरता है तो उसकी हड्डियों में चोट लगने की संभावना ज्यादा रहती है। बच्चे को नंगे पैर चलने दें और उसे लुभाने के लिए आसपास चॉकलेट या टॉफी रखें ताकि वह चलने के प्रति प्रेरित और आकर्षित हो।

 आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपका बेबी जिस फ्लोर पर चलना सीख रहा है वहां फिसलन न हो। अगर घर में फिसलन होगी तो बच्चे का नियंत्रण बिगड़ेगा और उसे चोट लग सकती है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times