< एडवांस हो गए मास्साब, अब दिमाग से नहीं बैटरी से चलते हैं Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News चीन के स्कूलों में माहौल खुशनुमा होता है। यहां हर दिन क्लास में "/>

एडवांस हो गए मास्साब, अब दिमाग से नहीं बैटरी से चलते हैं

चीन के स्कूलों में माहौल खुशनुमा होता है। यहां हर दिन क्लास में एक 'नन्हा' खिलौना आता है, उन्हें कहानियां सुनाता है, पहेलिया सुझाता है और सवाल भी पूछता है। यही नहीं जब बच्चे सवालों के सही जवाब देते हैं तो उसकी आंखों में दिल की आकृति उभर आती है।इस खिलौनेनुमा टीचर का नाम है कीको।

मूल रूप से यह एक रोबोट है जिसे पिछले साल लॉन्च किया गया। वर्तमान में चीन के 200 स्कूलों में इसकी सेवा ली जा रही है। शियामेन जीटोंग टेक्नोलॉजी ने इसे बनाया है।कीको रोबोट का दिमाग पांच साल के बच्चे जितना है। फिलहाल यह किंडरगार्टेन के छात्रों को ही पढ़ा रहा है। यह ह्यूमन रोबोट है। यानी ऐसा रोबोट जो इंसानों जैसी प्रतिक्रियां दे सके। इसकी लंबाई 60 सेंटीमीटर है।

हालांकि, स्कूलों ने यह आश्वस्त किया है कि कीको के आ जाने से शिक्षकों का पद खत्म नहीं होगा। कीको केवल सहायक का काम करता है। जब भी वह क्लास में होता है, टीचर भी वहां मौजूद रहता है। कंपनी का कहना है कि वह जल्द कीको का अपडेटेट वर्जन लॉन्च करने जा रहा है, हालांकि, उसका नाम फिलहाल तय नहीं किया गया है। 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times