< इलाकों में जहरीले सांपों का कब्जा, देखकर हैरान Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News घरों से जहरीले सांपों को पकड़ते हुए वन विभाग के कर्मचारि"/>

इलाकों में जहरीले सांपों का कब्जा, देखकर हैरान

घरों से जहरीले सांपों को पकड़ते हुए वन विभाग के कर्मचारियों का नजारा राजधानी देहरादून में आम नजर आ रहा है। वन विभाग के कर्मचारी रोजाना ऐसे ही दर्जनों सांपों को पकड़कर जंगलों में छोड़ रहे हैं हैरानी की बात यह है कि अक्सर जहां महीनों में जहरीले सांप घुसने की फोन कॉल्स आया करती थीं। 

फायर सीजन में जंगलों की आग से जूझ रहा उत्तराखंड वन विभाग एक और समस्या से भी जूझ रहा है। पिछले दो महीने में वन विभाग तीन सौ से अधिक सांप रेस्क्यू कर चुका है गर्मियां शुरू होते ही सांप-चूहे ठंडक की तलाश में बिलों से बाहर निकलने शुरू हो जाते हैं। गर्मी के सीजन में आजकल अधिक सूचनाएं जंगली जानवरों और सांपों की आती हैं जिसकी सूचना कंट्रोल रूम में बैठे वन विभाग के कर्मचारियों को बताया जाता है। उसके बाद वन विभाग की रेस्क्यू टीम मौके के लिए रवाना होती हैं।

देहरादून के चंद्रबनी, राजभवन, जाखन, कैनाल रोड से पिछले एक हफ्ते में वन विभाग को दर्जनों कॉल आ गई। अकेले राजभवन से मार्च से लेकर अभी तक 16 कॉल वन विभाग को आ चुकी हैं। इनमें अधिकतर धामन, कोबरा जैस सांप हैं जिनको देखते ही लोगों में चीख-पुकार मच जाती है। उत्तराखंड में करीब तीस से अधिक प्रजाति के सांप पाए जाते हैं इनमें भारत में पाए जाने वाले चार सबसे अधिक विषैले प्रजाति के सांपों में से तीन प्रजाति के सांप भी शामिल हैं।

मार्च से लेकर अभी तक वन विभाग अकेले देहरादून में घरों से तीन सौ से अधिक सांप रेस्क्यू कर चुके हैं। इस दौरान देहरादून में रेलवे कॉलोनी से कॉमन सेंड बोवा जैसा दुर्लभ सांप भी रेस्क्यू किया गया। बच्चे देने वाली प्रजाति का यह सांप उत्तराखंड में अभी तक रिकार्ड नहीं किया गया था तो ऊषा कॉलोनी से बेहद कम दिखाई देने वाला कैट स्नैक सांप भी एक घर से रेस्क्यू किया गया।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times