< भाजपा से मिल रही कड़ी चुनौती, ममता बना रहीं हैं त्रिस्तरीय रणनीति   Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News पश्चिम बंगाल में भाजपा से मिल रही कड़ी चुनौती, के चलते सीएम और तृ"/>

भाजपा से मिल रही कड़ी चुनौती, ममता बना रहीं हैं त्रिस्तरीय रणनीति  

पश्चिम बंगाल में भाजपा से मिल रही कड़ी चुनौती, के चलते सीएम और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी काफी गंभीर हैं। कांग्रेस और वाम दलों को किनारे लगाने के बाद तृणमूल कांग्रेस यहां एकछत्र राज करती रही है। लेकिन यह चुनाव उसके लिए बेहद चुनौतिपूर्ण हो सकते हैं।

राष्ट्रीय राजनीति में अपनी भूमिका मजबूत करने की कोशिश में जुटीं ममता बनर्जी किंगमेकर के तौर पर भी उबर सकती हैं। उनकी कोशिश है कि लोकसभा में भाजपा और कांग्रेस के बाद तृणमूल कांग्रेस सीटों के मामले में नंबर तीन पर रहे। इसके लिए उन्होंने खास रणनीति बनाई है, जो उनके 42 सीटों के कैंडिडेट्स के चयन में भी दिखती है। उनकी यह रणनीति त्रिस्तरीय है।

ममता बनर्जी ने 34 मौजूदा सांसदों में से 8 को टिकट नहीं दिया है, जबकि दो ने पार्टी छोड़ भाजपा जॉइन कर ली है। इससे स्पष्ट है कि ममता बनर्जी ऐंटी-इन्कम्बैंसी से बचने के लिए सांसदों के टिकट काट नए उम्मीदवार उतार रही हैं। स्थानीय मुद्दों पर जनता की नाराजगी से बचने का यह कारगर उपाय कहा जा सकता है।

भाजपा से मिल रही टक्कर और जनता के रुझान को देखते हुए ममता बनर्जी ने 17 उम्मीदवार ऐसे तय किए हैं, जो पहली बार लोकसभा जाने की तैयारी में हैं या फिर उनकी सीट बदली गई है। सत्ता विरोधी लहर से निपटने का यह भी एक तरीका है। ममता का यह कार्ड भी अहम साबित हो सकता है। उन्होंने 40 फीसदी से ज्यादा टिकट महिला उम्मीदवारों को दिए हैं। महिलाओं को अपने पक्ष में करने का यह सबसे आसान तरीका साबित हो सकता है।

इस बार सूबे में आम चुनाव की जंग तृणमूल बनाम भाजपा दिख रही है। भाजपा यहां एक मजबूत विपक्ष के तौर पर उभरी है और कई जिलों में लेफ्ट का सपॉर्ट बेस बुरी तरह कमजोर हुआ है। ऐसी स्थिति में लेफ्ट ने कांग्रेस संग मिलकर भाजपा और तृणमूल के खिलाफ अस्तित्व की लड़ाई में उतरने का फैसला लिया है।

ममता ने खुद मंगलवार को अपने उम्मीदवारों की सूची जारी करने के बाद यह माना था कि यह चुनाव कठिन है और भाजपा से कड़ी चुनौती मिल रही है। यही नहीं उन्होंने तो यहां तक कहा कि यदि माया और अखिलेश उन्हें आमंत्रित करते हैं तो वह वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ कैंपेन करेंगी।

बुधवार को भाजपा ने पश्चिम बंगाल में अपने तेवर कड़े करते हुए चुनाव आयोग से मांग करते हुए सूबे को अतिसंवेदनशील घोषित करने की मांग की। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के नेतृत्व में मिले नेताओं ने कहा कि बंगाल में होने वाली हिंसा को ध्यान रखते हुए अतिसंवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की मांग की। यही नहीं भाजपा ने सभी पोलिंग बूथों पर केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात करने की मांग की। 

About the Reporter

  • ,

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times