< सबसे कम उम्र का अंगदाता बना दो साल का बच्चा  Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News अपनों को खोने का गम और दर्द केवल उसके अपने ही समझ सकते हैं। ले‎क"/>

सबसे कम उम्र का अंगदाता बना दो साल का बच्चा 

अपनों को खोने का गम और दर्द केवल उसके अपने ही समझ सकते हैं। ले‎किन जब बात बच्चे के खोने की हो, तो इसके दर्द की कल्पना करने से ही कलेजा फट जाता है। मुंबई में दो साल के एक बच्चे के ब्रेन डेड होने के बाद भी अभिभावक ने इस दु:ख की घड़ी में किसी और की जान बचाने का ‎निर्णय लिया। नतीजतन बच्चे का हार्ट, किडनी, लिवर और आंखें दान कर दी गईं। अंगदान के बाद से यह बच्चा मुंबई का सबसे कम उम्र वाला अंगदाता बन गया है। 
जानकारी के अनुसार, मासूम को 4 फरवरी को बॉम्बे अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया था। जहां इलाज के दौरान उसकी स्थिति और भी खराब हो गई और डॉक्टरों ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार बच्चे को ब्रेनस्टेम ट्यूमर था। ब्रेन डेड की खबर सुनते ही अभिभावक का कलेजा दर्द से फट गया, लेकिन शोक और दु:ख की इस घड़ी में भी वे मानवता नहीं भूले और बच्चे का अंगदान करके दूसरों की जिंदगी बचाने का फैसला लिया।

बॉम्बे अस्पताल से मिली जानकारी के मुता‎बिक, बच्चे का हार्ट चेन्नै स्थित अपोलो अस्पताल में भेजा गया है। एक किडनी लीलावती, जबकि दूसरी ग्लोबल अस्पताल को भेजी गई है। वहीं लिवर ठाणे स्थित जुपिटर अस्पताल को दिया गया है। इसके अलावा बच्चे की आंख अंधेरी के एक आई बैंक को भेज दी गई है। बॉम्बे अस्पताल के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अनिल शर्मा ने कहा कि बेहद कम उम्र में बच्चे को खोने के बाद भी अभिभावक दूसरों कि जिंदगी बचाने के बारे में सोचे यह बहुत बड़ी बात है। अंगदान को बढ़ावा देने के लिए ऐसे उदाहरण हमेशा याद किए जाते हैं। बता दें कि देश में हर साल समय पर अंग न मिलने से लाखों लोगों की असामयिक मौत हो जाती है। 

About the Reporter

  • रोहित सिंह

    १ (पॉलिटिक्स बीट), एमएससी- मास कॉम इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी (लखनऊ यूनिवर्सिटी)

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times