< वैज्ञानिकों ने तैयार किया कपड़ा, शरीर के तापमान को बदलकर देगा राहत Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News अगर आप गर्मियों की गर्मी और कड़कड़ाती ठंड से परेशान रहते हैं तो "/>

वैज्ञानिकों ने तैयार किया कपड़ा, शरीर के तापमान को बदलकर देगा राहत

अगर आप गर्मियों की गर्मी और कड़कड़ाती ठंड से परेशान रहते हैं तो आप को इस समस्या से निजात जल्द ही मिलने वाला है। मैरीलैड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कपड़ा तैयार किया है। जो कि मौसम के अनुसार आपके शरीर के तापमान को बदलकर आपके शरीर को राहत देगा। यह कपड़ा गर्मियों के दिन में शरीर को ठंड का और जाड़े के दिनों में गर्मी का एहसास कराएगा। यह कपड़ा दिखने में साधारण ऊन के कपड़े की ही तरह दिखता है, लेकिन इसकी खासियत यह है कि इसमें नैनोट्यूब लगाए गए हैं जो मौसम के मुताबिक तापमान बदलकर शरीर को राहत देगा।

वहीं कपड़े को बनाने वाली टीम का कहना है कि हम यह कपड़ा मौसम में होने वाले बदलावों को ध्यान में रखकर बनाया है, ताकि लोगों को हर मौसम में अलग-अलग कपड़े खरीदने की दिक्कत नहीं हो। हमारी टीम यह कपड़ा तैयार किया है वह सर्दियों में सर्दी और गर्मियों में गर्मी से राहत देगी और शरीर के तापमान को भी नियंत्रित रखेगी। क्योंकि यह शरीर के तापमान के हिसाब से खुद ब खुद एडजस्ट हो जाता है। बता दें इस कपड़े की कीमत 5 डॉलर (350 रुपये) तक होने की उम्मीद जाहिर की गई है। 
बता दें यह पहली बार नहीं है, जब इस तरह का कपड़ा बनाया गया हो, इस तरह के कपड़े पहले भी बनाए गए हैं, लेकिन यह सिर्फ स्पोर्ट्स वियर में आते हैं, लेकिन अब जब रोजाना आने-जाने में इस्तेमाल होने वाले कपड़ों में इस कपड़े का इस्तेमाल होगा तो जाहिर सी बात है, लोग इस लेना पंसद करने वाले है। वहीं कपड़ा बनाने वाली टीम ने दावा किया है कि इस कपड़े के द्वारा व्यक्ति के शरीर का तापमान 35 प्रतिशत तक मैनेज हो सकता है। जिससे ठंडक और गर्माहट के एहसास को भी कम किया जा सकता है।

बता दें अभी तक जो कपड़े आ रहे हैं, उनमें सिर्फ 5 प्रतिशत ही शरीर के तापमान को मैनेज करने की क्षमता होती है। वहीँ कपड़े को बनाने वाली टीम ने बताया कि कपड़े को ऊन में नैनोट्यूब्स की कोटिंग करके बनाया गया है,ये नैनोट्यूब खास तरह के कार्बन से बने हैं जो शरीर में पसीना बहने पर सिकुड़ जाते हैं और शरीर की गर्मी को बाहर निकालने का काम करते है। वहीं सर्दियों के मौसम में यह फैल जाते हैं और ठंडी हवाओं को शरीर तक नहीं पहुंचने देते, जिससे शरीर में गर्माहट बनी रहती है।

About the Reporter

  • ,

अन्य खबर

चर्चित खबरें

Your Page has been visited    Times