< आपदाओं से हुई मौतों में भारत दूसरे नंबर पर  Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News 2017 में भारत 14वें नंबर पर था

प्राक"/>

आपदाओं से हुई मौतों में भारत दूसरे नंबर पर 

2017 में भारत 14वें नंबर पर था

प्राक्रतिक आपदा में मौतों के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर पहुंच गया है, जबकि 2017 में भारत दुनिया में 14वें नंबर पर था। 2015 में इस मामले में भारत चौथे और 2016 में छठे नंबर पर था। इस लिहाज़ से 2017 में भारत ने अपनी स्थिति में सुधार किया था, लेकिन 2018 में भारत को इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर रखा गया है। 2013 में भारत इस मामले में तीसरे नंबर पर था, जिसके बाद से अब तक यह भारत की सबसे बुरी स्थिति है।

पोलैंड में हुई यूनाइटेड नेशन क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि भारत ग्लोबल क्लाइमेट रिस्क इंडेक्स (सीआरआई) में दूसरे नंबर पर है। (सीआरआई)  जलवायु परिवर्तन से जुड़ी वजहों से किसी देश में प्रति लाख आबादी में लोगों की मौत आकंड़े से उस देश की जीडीपी को होने वाले नुकसान के विश्लेषण पर आधारित है। इस कैल्कुलेशन में बाढ़, साइक्लोन, टॉरनेडो, लू और शीत लहर से होने वाली मौतों को शामिल किया जाता है।

इस साल दिए गए आंकड़ों की बात करें, तो भारत में 2017 में प्राकृतिक आपदाओं से 2,736 मौतें दर्ज की गईं, जबकि पुअर्तो रीको 2,978 मौतों के साथ इस लिस्ट में पहले नंबर पर है। ये आंकड़े बर्लिन के स्वतंत्र संगठन जर्मनवॉच द्वारा जारी किए गए हैं। इन्हें जारी करते हुए जर्मनवॉच की तरफ से कहा गया कि (सीआरआई)  किसी देश में मौसम संबंधी त्रांसदियों से होने वाली मौत के बारे में बताता है।

जर्मनवॉच द्वारा जारी किए गए दस्तावेज बताते हैं कि अकेले 2017 में पूरी दुनिया में 11,500 लोगों की मौत हुई और इससे करीब 375 बिलियन डॉलर यानी 30 हज़ार करोड़ डॉलर से ज़्यादा का आर्थिक नुकसान हुआ। यह आंकड़े 2017 से पहले के बरसों से मुकाबले सबसे ज़्यादा हैं। 2013 में उत्तराखंड त्रासदी की वजह से भारत की रैकिंग बहुत खराब हो गई थी। वहीं इस साल भारत के दूसरे नंबर पर होने की सबसे बड़ी वजह केरल में आई बाढ़ है।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें