< पूजा करने से महिलाओं की बढ़ती है उम्र Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News शोधकर्ताओं का मानना है कि धार्मिक जगहों पर जाने से सामाजिक समर्"/>

पूजा करने से महिलाओं की बढ़ती है उम्र

शोधकर्ताओं का मानना है कि धार्मिक जगहों पर जाने से सामाजिक समर्थन बढ़ता है। धूम्रपान और शराब को तवज्जो नहीं मिलती, अवसाद कम हो जाता है और लोगों के जीवन में ज्यादा आशावादी दृष्टिकोण विकसित होता है। शास्त्रों के अनुसार पूजा पाठ से इंसान अपने मन के भावों को ईश्वर तक पहुंचा सकता है। पूजा करने से आप के मन को शांति मिलती है, क्योंकि इससे आप ईश्वर से जुड़ा महसूस करते हैं। यह भी कहा जाता है कि ईश्वर की उपासना करने से ईश्वर का आशीर्वाद आपको मिलता है और सारे संकट टल जाते हैं। अब तो साइंस ने ये बात मान ली है कि ईश्वर की आराधना करने से उम्र बढ़ती है। जो महिलाएं सप्ताह में एक बार पूजा करती हैं उनमें जल्दी मरने की संभावनाएं 25 फीसदी कम होती हैं। जो महिलाएं सप्ताह में एक बार पूजा करती हैं, या आराधना स्थल जैसे मंदिर, मस्जिद, चर्च आदि में जाती हैं तो उनमें दिल की बीमारी, और कैंसर से होने वाली मौत का खतरा कम होता है। वे  बाकियों के मुकाबले ज्यादा उम्र तक जीती हैं। हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर डॉ. टायलर वंडरविले ने करीब 75,000 महिलाओं पर एक शोध किया है, जिसमें वे धार्मिक महिलाओं और महिलाओं की मौत पर शोध कर रहे थे। सन 1992 और 2012 के बीच प्रश्नावली की सहायता से मूल्यांकन किया गया था, और इन 20 सालों की जांच के आधार पर ये नतीजे निकाले गए कि आशावाद और समुदाय की भावना से तनाव और अवसाद के प्रभावों से निपटा जा सकता है, जिसकी वजह से वे लंबी उम्र तक जीती हैं।

शोधकर्ताओं का मानना है कि धार्मिक जगहों पर जाने से सामाजिक समर्थन बढ़ता है, धूम्रपान और शराब को तवज्जो नहीं मिलती, अवसाद कम हो जाते हैं, और लोगों के जीवन में ज्यादा आशावादी दृष्टिकोण विकसित होता है। इस शोध के नतीजों के अनुसार जो महिलाएं सप्ताह में एक बार पूजा करती हैं, उनमें 26 फीसदी और जो एक सप्ताह से कम बार पूजा करती हैं उनमें मौत का 13 फीसदी कम खतरा होता है। जो महिलाएं कभी पूजा नहीं करतीं, उनके मुकाबले सप्ताह में एक बार से ज्यादा पूजा करने वाली महिलाओं में, दिल की बीमारी से होने वाली मौत में 27 फीसदी और कैंसर से होने वाली मौत में 21 फीसदी कम खतरा होता है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें