< ई-अटेंडेंस से बचने फोन नही चलाने का बना रहे बहाना Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News 16 जुलाई से ऐसे शिक्षकों होंगे गैरहाजिर

ई-अटेंडेंस से बचने फोन नही चलाने का बना रहे बहाना

16 जुलाई से ऐसे शिक्षकों होंगे गैरहाजिर

प्रदेश के सरकारी स्कूलों के 80 फीसदी शिक्षक ई-अटेंडेंस से लगाने से बचने पिछले तीन सालों से स्मार्ट फोन को न चलाने का बहाना बना रहे हैं। अब 16 जुलाई के बाद ऐसे शिक्षकों का कोई भी बहाना नहीं चल पाएगा, और सीधे अपसेंट लगाई जाएगी। सूत्रों की माने तो स्कूल शिक्षा विभाग 10 से 16 जुलाई तक एम शिक्षामित्र एप के क्रियान्वयन के लिए कार्यशाला शुरू कर रहा है। 16 जुलाई के बाद शिक्षकों को हर हाल में एप डाउनलोड करना ही होगा, नहीं तो उनकी अटेंडेंस नहीं लगेगी। जिला परियोजना समन्वयक के अनुसार जिले में सिर्फ 450 शिक्षकों ने ही एप डाउनलोड किया है। बता दें कि स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से समय पर स्कूल पहुंचने के लिए शिक्षा विभाग में ई-अटेंडेंस की व्यवस्था सितंबर 2015 से शुरू की गई थी, लेकिन स्थिति जस-की-तस है।

जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) के अनुसार अभी तक 20 फीसदी शिक्षक ही एम शिक्षा मित्र के जरिए अटेंडेंस लगा रहे हैं। बाकी जानकारी न होने का बहाना बना रहे हैं। इसीलिए कार्यशाला आयोजित की जा रही है। वहीं शिक्षकों का कहना है कि है कि एप में लोकेशन नहीं मिल रही है। जिन शिक्षकों ने एप को डाउनलोड किया है, उन्हें सुबह-सुबह ई-अटेंडेंस की तकनीकी खामियों से गुजरना पड़ रहा है। मप्र शासन स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षकों व कर्मचारियों की शाला में नियमित एवं समय पर उपस्थिति दर्ज करने के लिए एम शिक्षामित्र के प्रभावी क्रियान्वयन के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए संभाग, जिला स्तर और ब्लॉक स्तर पर प्रशिक्षण का आयोजन 10 से 16 जुलाई तक किया जाएगा। इस बारे में भोपाल संभाग के डीईओ धर्मेन्द्र शर्मा का कहना है कि जिले के 20 फीसदी शिक्षक ही ई-अटेंडेंस लगा रहे हैं। कई शिक्षक एप के क्रियान्वयन को समझ नहीं पा रहे हैं। उनके लिए कार्यशाला आयोजित की जा रही है।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें