< वह भारत को क्या सिखाएगा, पर्यावरण की रक्षा ! Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News प्रकृति की रक्षा कैसे करें ?

आज क"/>

वह भारत को क्या सिखाएगा, पर्यावरण की रक्षा !

प्रकृति की रक्षा कैसे करें ?

आज का विश्व किसका बनाया हुआ है ? अमेरिका का। एक भौतिकवादी ओर उपभोगवादी अमेरिका का ! वह भारत को क्या सिखाएगा, पर्यावरण की रक्षा ! उस भारत को, जिसमें बच्चों को सिखाया जाता है कि सूर्यास्त के बाद फूल मत तोड़ लेना, क्योंकि पौधे मनुष्यों की तरह सो जाते हैं। साल में एक दिन भारतीय महिलाएं पेड़ों की परिक्रमा करके उन्हें पूजती हैं। तुलसी के पौधे की तो रोज ही पूजा होती है। वृहदारण्यक उपनिषद में ऋषि याज्ञवल्क्य वृक्षों की तुलना मनुष्य के शरीर से करते हैं। प्रकृति, आत्मा और परमात्मा- इन तीनों तत्वों के संबंधों पर हमारे वेद और दर्शन ग्रंथों की विस्तृत मीमांसा है।

वृक्षों की रक्षा के लिए ही राजस्थान के खेजलडी नामक स्थान पर सन 1730 में 363 लोगों ने अपने सिर कटा दिए थे। ये सिर कटानेवाले लोग उस महान संत जम्भेश्वर महाराज के अनुयायी थे, जिन्होंने बिश्नोई संप्रदाय की स्थापना की थी। इस तर्ज पर 30-40 साल पहले उत्तराखंड में ‘चिपको’ आंदोलन चला था। क्या इस तरह का कोई बलिदान या आंदोलन उन देशों में चला है, जो दुनिया में सबसे अधिक प्रदूषण फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं ? इन राष्ट्रों ने हमें सिर्फ पेड़-पौधों से दुश्मनी करना ही नहीं सिखाया है, उन्होंने प्लास्टिक, पेट्रोल, कोयले के धुंए और डिब्बाबंद जीवन का ऐसा मायाजाल फैलाया है कि अब से तीस-चालीस साल बाद इस दुनिया के करोड़ों लोग शुद्ध पानी पीने और सांस लेने को तरस जाएंगे। सभी दुनिया के लोग हर साल 13 लाख टन प्लास्टिक का इस्तेमाल करके उसे समुद्रों के हवाले कर देते हैं। हर मिनिट 10 लाख प्लास्टिक की बोतलें फेंकी जाती हैं।  प्लास्टिक की थैलियां निगल जाने के कारण लाखों पशु, पक्षी और समुद्री जीव मौत के घाट उतर जाते हैं।

भारत में 15 लाख टन कचरा रोज़ पैदा होता है। पिछले 100 वर्ष में भारत में इतनी बेरहमी से पेड़ काटे गए हैं कि अब जंगल सिर्फ 21.34 प्रतिशत ही रह गए हैं। प्रकृति के इस विनाश का मुकाबला कठोर कानून बनाने और उन्हें निर्ममतापूर्वक लागू करने से होगा। पेड़ों को गिरानेवालों, प्लास्टिक की थैलियों को बनाने, बेचने और इस्तेमाल करनेवालों को कड़ी सजा दी जाए। लोगों को प्रेरित किया जाए कि वे प्लास्टिक की वस्तुओं का कम से कम उपयोग करें। राजनीतिक दल और समाजसेवी संस्थाएं आंदोलन चलाएं और आम लोगों से संकल्प करवाएं। यदि हर व्यक्ति कम से कम 10 पेड़-पौधे लगाने का संकल्प ले ले तो भारत में 1300 करोड़ नए पौधे और पेड़ लहराने लगेंगे। हमारे वैज्ञानिकों को अनुसंधान करके ऐसे उपाय खोज निकालने चाहिए, जिनसे जो प्लास्टिक 1000 साल तक नष्ट नहीं होता, उसे तुरंत खत्म किया जा सके। देश की समस्त राज्य सरकारें लोगों को मुफ्त पौधे दें, बीज दें, खाद दें, सिंचाई की व्यवस्था करे। शाकाहार को बढ़ावा दे। प्रकृति को नागरिकों के रोजमर्रा के जीवन से घनिष्टतापूर्वक जोड़े।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें