< हिंसामय भारत से विश्व शांति का संदेश कैसे दिया जाएगा ? Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News भारत विभाजन के समय से हिंसा से ग्रस्त चला आ रहा है। कभी स्वामी वि"/>

हिंसामय भारत से विश्व शांति का संदेश कैसे दिया जाएगा ?

भारत विभाजन के समय से हिंसा से ग्रस्त चला आ रहा है। कभी स्वामी विवेकानंद ने पश्चिम बंगाल में स्वामी रामकृष्ण परमहंस के नाम से संस्थान बनाए और सर्वधर्म समभाव के सूत्र को पिरोया था। वहाँ भी हिंसा है। कश्मीर भारत का स्वर्ग है। कश्मीर वो जगह है , जहाँ अति आनंद की अनुभूति कन्याकुमारी में रह कर भी की जा सकती है। किन्तु हालात ऐसे बदतर होते चले जा रहे हैं कि कन्याकुमारी तक भयावह स्थिति को महसूस किया जा रहा है। शिलांग भी भारत का प्रमुख हिस्सा है और यहाँ भी हिंसा मुंह फैलाने लगी है। इससे पहले भी किसान आंदोलन के नाम पर मध्यप्रदेश का मंदसौर दहल उठा था , तो उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में सपा शासनकाल में खूब दंगा हुआ था। कभी आतंक के साए में तो कभी अंदरूनी हालात की वजह से भारत दहलता रहता है। असल में इसके बीज आजादी के समय बोए गए और फिर इनका अंकुरित होता चला जाना और अलगाववादी तथा तुष्टीकरण को संरक्षण प्राप्त होना बड़ा दुखद रहा। किन्तु भारत के हालात बदलने चाहिए वरना हम कैसे विश्व शांति का संदेश दे सकते हैं ?

About the Reporter

चर्चित खबरें