< चरखारी को पर्यटन क्षेत्र के रुप में विकसित करने का खाका तैयार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News कस्बे में पर्यटन के विकास में सबसे बड़ी बाधा पर्यटकों "/>

चरखारी को पर्यटन क्षेत्र के रुप में विकसित करने का खाका तैयार

कस्बे में पर्यटन के विकास में सबसे बड़ी बाधा पर्यटकों के रूकनेे के लिए कोई वीआईपी होटल या साधन का ना होना है। लेकिन शीघ्र ही राजमहल परिसर को विदेशी पर्यटकों के ठहरने के लिए होटल हेरिटेज बनाया जाएगा। प्रदेश सरकार ने भी राजमहल भवन को हेरिटेज की श्रेणी में शामिल किया गया है। 

इसकी जानकारी देते हुए पूर्व सांसद गंगाचरण राजपूत ने बताया कि विदेशी पर्यटकों के लिये प्रदेश सरकार द्वारा हेरिटेज घोषित किए जाने के बाद राजमहल प्रांगण को पुराने आलीशान स्वरुप में लाने के लिए दिल्ली के आर्किटेक्ट को कार्य सौंपा गया है। प्रदेश सरकार ने चरखारी को इकोटूरिस्म घोषित करते हुए टोला तालाब में इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए 4 करोड रुपए स्वीकृत किया गया है। इसके अलावा चरखारी के तालाब में वाटर स्पोर्ट्स साउंड एंड लाइट राजस्थानी संस्कृति व सांस्कृतिक विधाओं के लिए पुनः स्थापित किए जाने जैसी तमाम योजना प्रस्तावित है। लेकिन पर्यटक व विदेशी पर्यटक यहां पहुंचे और रात गुजार सके इसके लिए कोई प्रबंध ना होना पर्यटन के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। लेकिन वह समय दूर नहीं जब विदेशी सैलानियों को ठहरने खाने पीने की बेहतर व्यवस्था हो सकेगी। इसके लिए पूर्व सांसद गंगाचरण राजपूत, विधायक बृजभूषण राजपूत ने विकास का खाका तैयार किया है। पूर्व सांसद ने बताया कि प्रदेश सरकार ने राज महल को हेरिटेज घोषित किया है और राजमहल के पुराने वैभव व स्वरूप को लौटाने के लिए देश के प्रमुख आर्किटेक्ट आशीष सक्सेना को काम सौंपा है। 

उन्होंने बताया कि राजमहल की हर पुरानी कलाकृतियों डिजाइनों को उसी रूप में तथा उसी पुरानी सामग्री के माध्यम से ही बहाल कराया जाएगा। राजपूत ने बताया कि विदेशी विदेशी सैलानियों के लिए हेरिटेज में 15 कमरों को विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खजुराहो ओरछा की तरह ही चरखारी को भी पर्यटन के लिए तैयार किया जाएगा।

चरखारी के तालाबों को बेहतर बनाने तथा उनका जीर्णोद्धार किए जाने पर राजपूत ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की भी सराहना की साथ ही उन्होंने कहा कि अच्छे कार्य की सराहना होनी चाहिए और इसी सोच के साथ वह भी कार्य कर रहे हैं ताकि चरखारी पर्यटन क्षेत्रों में शामिल हो सके। उन्होंने कहा कि सकारात्मक सोच के साथ लोगों का सहयोग जरूरी है और लोग चरखारी के विकास और पाटन के विकास के लिए सकारात्मक सोच के साथ सहयोग करें। उन्होंने कहा कि चरखारी का किला पर्यटन की दृष्टि से सबसे अधिक महत्वपूर्ण है तथा पाठकों के लिए इसे खुलवाया जाने का प्रयास किया जा रहा है। सांसद ने कहा पूरी चरखारी को हेरिटेज सिटी घोषित कराते हुए शामिल कराया जाएगा।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें