< खजुराहो उदयपुर इंटरसिटी में आग लगने से रेल ट्रैक बाधित Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News खजुराहो इंटरसिटी एक्सप्रेस के इंजन में आज हरपालपुर रेलवे स्टेश"/>

खजुराहो उदयपुर इंटरसिटी में आग लगने से रेल ट्रैक बाधित

खजुराहो इंटरसिटी एक्सप्रेस के इंजन में आज हरपालपुर रेलवे स्टेशन के समीप आग लग जाने से एक बड़ा हादसा टल गया। हालांकि ट्रेन रूकते ही तमाम यात्री ट्रेन से कूद गये जिससे उन्हें हल्की फुल्की चोटें आयी है। दुर्घटना के कारण कई घंटे झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रैक बाधित रहा। 

आज महोबा से निर्धारित समय से खजुराहो इंटरसिटी एक्सप्रेस रवाना हुई। जैसे ही ट्रेन हरपालपुर के समीप पहुंची तभी अचानक इंजन मे आग लग गयी। ड्राइवर ने सूझबूझ का परिचय देते हुए चैन रोक दिया। जिससे बड़ा हादसा टल गया। बताया जाता है कि अगर ट्रेन रफ्तार में होती तो पूरी ट्रेन आग की लपटों से धू-धूकर जल उठती।

घटना के समय ट्रेन हरपालपुर स्टेशन की ओर बढ़ रही है जिससे ट्रेन की गति धीमी थी। बाद मे ट्रेन के चालक ने यूपी 100 को सूचना दी जिससे दमकल की दो गाड़ियां पहुंची और जीआरपी के जवान पर मौके पर पहुंचे जिन्होंने आग पर काबू पा लिया। आग लगने का कारण ज्ञात नहीं हो पाया। 

खजुराहो से उदयपुर जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस सं 19665 अपने निर्धारित समय पर महोबा स्टेशन से रवाना हुई। अभी यह ट्रेन हरपालपुर से एक किमी. पूर्व किलोमीटर संख्या 1214/9 पहुंची थी कि चलती ट्रेन में ही इंजन में आग लग गई। लोको पायलट गजराज मीना एवं सहायक लोको पायलट द्वारा ट्रेन को रोक उपलब्ध अग्नि शामक यन्त्र की सहायता से आग पर काबू पाने के प्रयास में जुटे और सूचना रेलवे के उच्चाधिकारियों को दी। ट्रेन में लगी आग और इंटरसिटी के बर्निंग ट्रेन बनने की आशंका के मद्देनजर यात्री ट्रेन की बोगियों से कूदकर भागे। इस जल्दी पहले उतरने के चक्कर में आधा दर्जन रेल यात्री गिरकर मामूली रूप से घायल हुए। 12 बजे दोपहर लगी आग 12.30 बजे दमकल के पहुंचने के बाद 12.50 पर बुझाई जा सकी। 

इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन के यात्रियों को इंजन में लगी आग के कारण पीआरओ रेलवे झांसी मनोज कुमार सिंह के मुताबिक एहतियात के तौर पर हरपालपुर स्टेशन से स्टेशन मास्टर, गार्ड एवं अन्य उपस्थित रेलवे कर्मचारियों द्वारा तत्परता से कोच खाली करा उतार लिया गया। ताकि कोई अप्रिय घटना ना घटित हो सके। इंजन में लगी आग और पहले बुझा दी जाती लेकिन दमकल के बड़े वाहन के बरंडा बुजुर्ग गांव के पास प्रधान के द्वार पर ही फंस जाने से न पहुंचने और मप्र से ही छोटे दमकल वाहन को तलब कर मौके पर रवाना करने में देरी हुई। हालांकि बाद में दमकल का फंसा वाहन प्रधान रामकुमार के चबूतरे को तोड़कर निकाला गया।  इंजन को ट्रेन से काट अलग किया गया। किसी प्रकार का कोई अन्य नुक्सान नहीं हुआ है सभी यात्री एवं ट्रेन सुरक्षित  हैं रेल प्रशासन द्वारा उक्त घटना की जांच के आदेश दे दिए है। दोपहर 3 बजे यातायात बहाल हुआ। इसे बाद दूसरा इंजन जोडकर गाडी को सकुशल गंतव्य की और रवाना किया गया। इस बीच रेल यात्री जंगल में पीने के पानी को तरस गए।

सुबह से ट्रेन में सवार यात्रियों को खाने पीने की कौन कहे तीन बजे के बाद भी पानी की उपलब्धता तक रेल प्रशासन सुनिश्चित नहीं कर सका। तपती धूप में रेल यात्रियों ने चार घंटे का समय खड़े रहकर गुजारा। पीडब्लूआई मनमोहन सिंह के अलावा आरपीएफ के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी मौके पर पहुंचे। डीआरएम झांसी भी विशेष ट्रेन से घटनास्थल के लिए निकल चुके है। यह जानकारी आरपीएफ के पुलिस अधिकारियों ने दी।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें