< तूफान ने चित्रकूट मण्डल में मचाई तबाही Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News चित्रकूट मण्डल में बीती आधीरात को 100 किमी प्रति घण्टे की रफ्तार स"/>

तूफान ने चित्रकूट मण्डल में मचाई तबाही

चित्रकूट मण्डल में बीती आधीरात को 100 किमी प्रति घण्टे की रफ्तार से आये तूफान ने भारी तबाही मंचाई। मण्डल के चारों जनपदों में सैकड़ों पेड़, बिजली के पोल, तार-टूअ जाने से पूरी रात अंधेरा छाया रहा। तूफान की चपेट में आकर दो व्यक्ति हवा में उछलकर छत से नीचे गिर गये जिनकी मौके पर मौत हो गई। जबकि चित्रकूट में दीवार गिरने से एक किशोरी की दबकर मार गई। पेड़ गिरने के कारण ही रेलवे ट्रैक बाधित रहा जिससे कई घण्टे रेल यातायात बाधित रहा।

मण्डल के चारों जनपदों में बुधवार की रात तूफान ने भारी तबाही मचाई बिजली के पोल व तार टूट जाने से विघुत आपूर्ति बाधित हो गई। सैकड़ों पेड तूफान में जड़ से उखड़ गये जो बिजली के तारों में गिरने से बाँदा के पावर हाउस में इंसुलेटर ध्वस्त हो गए। चित्रकूट जनपद के एसडीएम कालोनी के पीछे सरकारी भवन की चहार दीवारी गिरने से 12 वर्षीय किशोरी प्रीति मलबे में दब गई ओर उसकी मौत हो गई। वह अपनी मां के साथ आंधी व पानी से गायकों बचाने में वहां गई थी। जहां गाय बंधी थी तभी दीवार गिर गई और उसकी मौत हो गई। चित्रकूट में ही भरतकूप शिवरामपूर रेलवे ट्रैक पर तूफान के दौरान गिरे पेड़ से चित्रकूट एक्सप्रेस का इंजन टकरा गया। जिससे एक बड़ा हदसा टल गया। इस दुर्घटना के कारण कई घण्टे तक रेल यातायात बाधित रहा। 

बाँदा में तूफान के कारण भारी नुकसान हुआ। विद्युत पोल टूटने व पेड़ गिरने से विघुत आपूर्ति 16 घण्टे बाधित रही। जगह-जगह तार टूटने से विद्युत कर्मी विद्युत बहाल करने में दिन रात जुटे रहे लेकिन 16 घण्टे तक विद्युत आपूर्ति नही हो सकी बिजली के अभाव में जलापूर्ति ठप रही। पानी के लिए सवेरे से लोग खाली बर्तन लेकर भटकते रहे। जल संस्थान पेयजल टैंकर वाले इलाकों में टैंकर से पानी भी उपलब्ध नही करा पाया। वहीं जनपद के थाना चिल्ला अन्तर्गत ग्राम पलरा में शिवशंकर (54) पुत्र सुन्दर प्रसार रैदास पूर्व प्रधान अपने भतीजे का ससुराल तिन्दवारी क्षेत्र के ग्राम पछैवरा गया था जहां तूफान के दौरान छत में सो रहा था। हवा में वह आने को से माल नही पाया और सीधे उड़कर नीचे गिर गया। जिसकी मौके पर मौत हो गई। इसी तरह हमीरपुर जनपद के सायर गांव में भी छत से हवा में उड़कर अमृतलाल नीचे गिर गया और उसकी मौत हो गई।

उधर महोबा में भी तूफानी हवाओं से सैकड़ों पेड़ उखड़ गये जिससे एमएच-76 में यातायात बाधित रहा। विद्युत आपूर्ति ठप रही। दर्जनों मकान ध्वस्त हो गए जिससे कई लोग बाल-बाल बच गए। तूफान के कारण समूचे चित्रकूट मंडल में जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। 
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें