< पुत्र को माता-पिता व गुरु आज्ञा का नहीं करना चाहिए उल्लंघन Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News रैपुरा गांव में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के चतुर्थ दिवस की कथा म"/>

पुत्र को माता-पिता व गुरु आज्ञा का नहीं करना चाहिए उल्लंघन

रैपुरा गांव में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के चतुर्थ दिवस की कथा में कथावाचक रामसागर महाराज ने भरत की कथा के द्वारा यह संदेश दिया कि व्यक्ति को संसार में रहते हुए भी संसार में आसक्त नहीं होना चाहिए और अपना मन भगवत भजन में लगाना चाहिए।

कथा के क्रम में समुद्र मंथन की कथा में बताया की दुष्ट प्रवृत्ति के लोग वस्तु प्राप्त हो जाने पर भी उसका लाभ नहीं ले पाते। जिस प्रकार राक्षस देवताओं से अमृत छीन कर भी उनका अपमान नहीं कर पाए। कथा के माध्यम से भगवान के मत्स्यावतार, कच्छ अवतार, वामन अवतार की कथा श्रवण करा कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। प्रह्लाद की कथा के माध्यम से यह संदेश दिया कि यदि परमात्मा में पूर्ण विश्वास है तो वह पग-पग पर रक्षा करते हैं और भक्त की रक्षा के लिए ईश्वर पत्थर से भी प्रकट हो जाते हैं। श्री राम की कथा के द्वारा मानवता का संदेश दिया। बताया कि पुत्र को किसी भी स्थिति में माता पिता एवं गुरु की आज्ञा का उल्लंघन नहीं करना चाहिए। कथा के अंत में भगवान श्री कृष्ण के पावन जन्मोत्सव की कथा का रसपान कराया। जन्मदिन की बधाई सुशील एवं पंकज ने प्रस्तुत की। इस दौरान श्रोतागण झूम उठे। इस मौके पर जय प्रकाश शुक्ला, विजय शुक्ला आदि मौजूद रहे।

धन-मन का नाश करता है अहंकार: शास्त्री

मुख्यालय स्थित पुरानी बाजार के चित्रगुप्त मंदिर परिसर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के चैथे दिन भागवताचार्य उमाकांत शास्त्री ने गोवर्द्धन पूजा की कथा का रसपान कराया। उन्होंने कहा कि जब-जब भक्तों पर विपदा पड़ी तब-तब भगवान ने मदद की। इन्द्र की पूजा न होने से तेज बारिश कराई। जिस पर भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्द्धन पर्वत को अंगुली पर उठाकर भक्तों की रक्षा की। उन्होंने बताया कि कभी अहंकार नहीं करना चाहिए। अहंकार से बुद्धि क्षीण होती है। समस्त काम विपरीत व गलत होते हैं। अहंकार मन को नुकसान पहुंचाने के साथ ही धन को भी बरबाद करता है। उन्होंने कहा कि रावण व कंस ने अहंकार किया तो उनका क्या हश्र हुआ यह सभी जानते हैं। कहा कि वंश तक नाश हो गया। भगवान श्रीकृष्ण और राम का नाम लेने से कष्ट दूर होंगे। इस मौके पर केके माथुर, सीमा निगम, रमाशंकर श्रीवास्तव, शर्मिला, राजू, रामू, सुशील, रजनी, कमला, उमाशंकर, पप्पू, राजेन्द्र खरे आदि श्रोतागण मौजूद रहे।

About the Reporter

  • राजकुमार याज्ञिक

    चित्रकूट जनपद के ब्यूरो चीफ एवं भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार याज्ञिक चित्रकूट जनपद के एक वरिष्ठ पत्रकार हैं। पत्रकारिता में स्नातक श्री याज्ञिक मुख्यतः सामाजिक व राजनीतिक मुद्दों पर अपनी गहरी पकड़ रखते हैं।, .

अन्य खबर

चर्चित खबरें