< प्रेमी ने 80 हजार में दी थी सुपारी, हत्याकाण्ड का खुलासा, 8 गिरफ्तार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News एएनएम ने प्रेमी के साथ रची थी पति की हत्या की साज"/>

प्रेमी ने 80 हजार में दी थी सुपारी, हत्याकाण्ड का खुलासा, 8 गिरफ्तार

एएनएम ने प्रेमी के साथ रची थी पति की हत्या की साजिश

दस दिन पहले कमासिन थाना क्षेत्र से 3 किमी. दूर राजा मार्ग पर एएनएम के पति की गोलीमार कर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले को खुलासा करने हुए मृतक की एएनएम पत्नी और उसके प्रेमी सहित आठ लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

एएनएम के प्रेमी ने 80 हजार रूपये में हत्या की सुपारी दी थी। थानाध्यक्ष राकेश पाण्डेय ने बताया कि हत्या बेहद सुनियोजित तरीके से की गयी थी जिसके लिए काफी पहले से जमीन तैयार की गयी थी। हत्या का कारण अवैध सम्बन्ध समाने आया हैं। बताया गया है स्थानीय स्वास्थ्य केन्द्र में एएनएम के पद पर प्रभावती यादव कार्यरत थी। अपने पति सुशील यादव निवासी मौदहा (अमिलिहा पुरवा) थाना मर्का के साथ किराये के मकान में रहती थी। वहीं बगल में सांडा सानी निवासी राजू यादव 30 वर्ष रहता था। जो रिश्तेदारी में था। चूंकि सुशील (35) शराबी था तथा आये दिन एएनएम के साथ मारपीट करता था। इसी दौरान राजू यादव से अवैध सम्बन्ध हो गये। दोनों मिल कर सुशील की हत्या करने की योजना बनाने लगे।

राजू यादव की अच्छी जान पहचान लोहरा निवासी तरूण सिंह से थी। राजू ने 80 हजार रूपये में सुशील को मरवाने की सुपारी दी थी। तरूण सिंह ने राजा सिंह, नवल सिंह, व दिगम्बर सिंह से उक्त बात बतायी। दिगम्बर सिंह ने हत्या की जिम्मेदारी ली जिसे पेशगी के तौर पर नौ हजार नौ सौ रूपये राजू यादव से तरूण ने दिला दिया था। 

दिगम्बर सिंह ने गांव लोहरा के सीताराम सिंह से तमंचा व पप्पू सिंह ने कारतूस खरीदा। दिगम्बर सिंह ने अपनी बहन संध्या सिंह जो अढौली फतेहपुर जनपद में व्याही थी उसका मोबाइल लेकर सुशील, राजू आदि से बातचीत करके सारे लोकेशन लेता रहा। घटना के दिन दिगम्बर सिंह कमासिन आकर सम्पर्क करता रहा जब सुशील दवा लेने हेतु मुन्ना मेडिकल स्टोर गया तो वहां दिगम्बर सिंह जा पहुंचा और सुशील को को विश्वास में लेकर एक अवैध गर्भ गिराने हेतु एएनएम को मोटी रकम दिलाने का लालच दिया तथा उसके परिजनों से मिलाने हेतु गांव चलने को कहा। सुशील झांसे में आ गया और वाइक में पीछे बैठकर दिगम्बर के साथ दिया रात करीब 10 बजे जैसे ही जमरेही मोड के पास पहुंचे तो दिगम्बर सिंह ने बाइक रोकने को कहा। सुशील ने जैसे ही बाइक रोकी तो पीछे बैठे दिगम्बर ने सर के नीचे गोल दाग दी। घायल सुशील जमीन पर गिर गया जिसकी मौके पर ही मृत्यू हो गयी और दिगम्बर सिंह भाग खड़ा हुआ। पुलिस के लिए यह केश बेहद चुनौती पूर्ण था। क्योंकि शक के आधार पर कुछ सुशील के सहयोगियों के उठाया था। गहन पूंछताछ के बाद कोई सफलता नही मिली। तब सर्विलांस के जरिए काल डिटेल निकाली गयी और अन्तिम काल डिटेल के जरिए दिगम्बर सिंह को उठाया गया। जिसने सारा राज उगल दिया। सारे काल डिटेल को एक कडी में पिरोकर पुलिस ने एएनएम सहित आठ को गिरफ्तार कर गहन पूछताछ किया समस्त राज साफ-साफ सामने आ गया। 

पुलिस ने दिगम्बर सिंह निवासी लोहरा को धारा 302, 34 तथा एएनएम प्रभावती, प्रेमी राजू यादव निवासी, सांडा सानी तथा सीताराम सिंह, पप्पू सिंह, तरूण सिंह, राजा सिंह व नवल सिंह निवासीगण लोहरा के विरूद्ध धारा 120 बी, 302 व 34 के तहत रिपोर्ट दर्ज करते हुए जेल भेज दिया है।

थानाध्यक्ष राकेश पाण्डेय ने बताया है कि हत्यारे दिगम्बर सिंह की निशानदेही पर स्पोहर के समीप राजापुर मार्ग में में छिपाये गये तमंचा, खोखा व एक जिन्दा कारतूस बरामद किया गया।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें