< पाचन शक्ति दुरुस्त करती है मातंगी मुद्रा: योगाचार्य Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News मुख्यालय स्थित जगदीशगंज एवं कुबेरगंज मोहल्ले में सा"/>

पाचन शक्ति दुरुस्त करती है मातंगी मुद्रा: योगाचार्य

मुख्यालय स्थित जगदीशगंज एवं कुबेरगंज मोहल्ले में साप्ताहिक योग शिविर में योगाचार्य रमेश सिंह राजपूत ने योग प्रशिक्षणार्थियों को बताया कि योग भारत का परम्परागत दर्शन शास्त्र है जो भारतीय तत्व ज्ञान व संस्कृति का मुख्य आधार है। योग किसी धर्म, विशेष, जटिल, कृत्रिम अभ्यास का नाम नही है। यह जीवन की उस पद्धति या शैली का नाम है जो स्वावभाविकतया प्रत्येक मनुष्य की होनी चाहिये।

योगाचार्य राजपूत ने मातंगी मुद्रा का अभ्यास कराते हुये बताया कि मातंग का अर्थ मेघ और दुर्गा का रूप भी मातंगी है। ऋषि वशिष्ठ की पत्नी व महर्षि कश्यप की पुत्री का नाम भी मातंगी ही था। दस महाविद्याओं में से नौवी विद्या को मातंगी मुद्रा कहते हैं। उन्होंने बताया कि इसे करने के लिए दोनो हाथों की अंगुलियों को परस्पर फंसाकर दोनो मध्यमा अंगुलियों को मिलाकर सीधा रखते हैं। पेट के पास रखते हुये चार मिनट में करते हुये अपना ध्यान मणिपूरक चक्र नाभी के पास श्वांसों के साथ लगाना चाहिए। इससे पाचन शक्ति बढती है। हृदय की धड़कन सामान्य रहती है। तनाव ठीक रहता है। हृदय, अमाशय, यकृत, पित्ताशय, अग्नाशय व गुर्दे स्वस्थ्य और क्रियाशील रहते हैं।

चार दिवसीय शिविर में देंगे योग प्रशिक्षण

योगाचार्य रमेश सिंह राजपूत ने बताया कि राज्य शैक्षिक अनुसंधान प्रशिक्षण परिषद लखनऊ के निर्देशानुसार आठ जिलों में चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर, बहराइच, बलरामपुर, गोडा, श्राबस्ती व बांदा आदि के पांच-पांच अध्यापक छह से नौ मार्च तक जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान बांदा में चार दिवसीय 40 अध्यापक योग प्रशिक्षण लेकर अपने शिक्षण, कौशल और शारीरिक क्रियाकलापों को प्रभावी बनायेंगे। उन्होंने बताया कि यह राज्य स्तरीय योग प्रशिक्षण डाएट प्राचार्य नजरुद्दीन अंसारी के संरक्षण में योगाचार्य रमेश सिंह राजपूत, डा शिव प्रकाश सिंह और रमेश सिंह पटेल देंगे।

About the Reporter

  • राजकुमार याज्ञिक

    चित्रकूट जनपद के ब्यूरो चीफ एवं भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार याज्ञिक चित्रकूट जनपद के एक वरिष्ठ पत्रकार हैं। पत्रकारिता में स्नातक श्री याज्ञिक मुख्यतः सामाजिक व राजनीतिक मुद्दों पर अपनी गहरी पकड़ रखते हैं।, .

अन्य खबर

चर्चित खबरें